34.8 C
Jodhpur

गाँव की गलियां खिल खिलाएंगी, अपने मातृभूमि के गांव आएंगी बेटियां

spot_img

Published:

बाड़मेर के समदड़ी कस्बे में चार दिन दिखेगी देशभर की संस्कृतियां, फिर उपहार देकर विदा की जाएंगी बेटियां

जोधपुर। बाड़मेर के समदड़ी कस्बे में साल की विदाई एक खूबसूरत अहसास के साथ होगी। जी हां, यहां पहली बार एक साथ जुट रही हैं समदड़ी की 800 से ज्यादा बेटियां, देशभर में रह रहीं समदड़ी की बेटियों को अपने पीहर में एक साथ जुटाने और उनकी मान-मनुहार करने का बीड़ा उठाया है श्री जैन मित्र मंडल, समदड़ी ने।
मित्र मण्डल के शान्तिलाल पालरेचा ने बताया,29 दिसंबर से 1 जनवरी तक चार दिन बेटियों के नाम होंगे।पूरे कार्यक्रम के मुख्य सहयोगी केसरदेवी पारसमल जी काँकरिया परिवार बैंगलोर है आखिरी दिन बेटियों को उपहार देकर विदा किया जाएगा। आयोजन की थीम रखी गई है ‘समदड़ी की शान बेटियां, समदड़ी का सम्मान बहुरानियां’। रमेश भंसाली ने बताया कि इस आयोजन के बारे में कुछ बेटियों कांता लुंकड़ जिनानी पिंकी साँखला संघवी पिन्टू बाफना विनायकिया संगीता बापा बन्दा मुथा साथ प्रमुख सहयोग रहा जो गांव की बेटी और बहू दोनों की भूमिका अदा कर रही हैं पुष्पाजी बापा बागरेचा ने कोरोना के दौरान दिमाग़ में आया था,जिसे मूर्त रूप देने में जुट गए हैं समदड़ी के उनके सभी भाई।श्री जैन मित्र मंडल के संदीप सांखला ने बताया कि 800 से ज्यादा बेटियां रजिस्ट्रेशन करवा चुकी हैं।
29 दिसंबर को सभी का स्वागत बहुरानियां करेंगी। दिन में मोटिवेशनल सेमीनार रखी जाएगी। शाम को एक साथ सालभर के त्यौहार मनाए जाएंगे। अलग-अलग शहरों से आ रही बेटियां एक-एक त्यौहार की परफॉर्मेंस देंगी। इस तरह करीब 20 त्यौहार एक साथ मनाए जाएंगे।
30 दिसंबर को सुबह हेरिटेज वॉक होगी जिसमें बेटियों को पूरे समदड़ी का भ्रमण करवाया जाएगा। सभी बेटियां एक जैसी टी-शर्ट में तिरंगा लेकर चलेंगी। दोपहर में पारंपरिक खेल गिल्ली-डंडा, सतौलिया, खो-खो आदि खेले जाएंगे। शाम को बड़ी भजन संध्या का आयोजन किया जाएगा जिसमें देश के नामी भजन गायक प्रस्तुति देंगे।
31 दिसंबर को सुबह 75 वर्ष से ऊपर के बुजुर्गो का सम्मान किया जाएगा जबकि दोपहर में ‘समदड़ी गोट टैलेंट’ का आयोजन होगा। इसमें बेटियां अपना हुनर दिखाएंगी। इसी दिन घूमर नाइट का आयोजन होगा जिसमें बेटियां परंपरागत राजस्थानी वेशभूषा में दिखेंगी। एक जनवरी को सुबह शोभायात्रा निकाली जाएगी और दोपहर को क्रिकेट मैच का फाइनल खेला जाएगा। इसी दिन शाम को विदाई गीतों के साथ बेटियों को उपहार देकर बहुरानियां ससुराल के लिए विदा करेंगी। आयोजन के लिए नौ सदस्यों ने मिलकर कोर कमेटी बनाई है। इसमें शांतिलाल पालरेचा, रमेश भंसाली, अशोक बाफना, मोती ओसवाल, मनोज लूंकड़ सुरेश चोपड़ा, संदीप सांखला, विमल भंडारी और विशाल बागरेचा है। आयोजन को सफल बनाने के लिए पूरी टीम पिछले एक महीने से तैयारी कर रही है।

Village streets will blossom, daughters will come to their motherland’s villages

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!