18.2 C
Jodhpur

शातिर वाहन चोर गिरोह का पर्दाफाश, 11 वारदातों का खुलासा, चार बदमाश गिरफ्तार

spot_img

Published:

– मंडोर पुलिस की कार्रवाई, 9 दुपहिया वाहन बरामद, इंजन-चैसिस नंबर लिखने-मिटाने के उपकरण भी जब्त

नारद जोधपुर। शहर में सक्रिय एक बड़े वाहन चोर गिरोह का खुलासा करते हुए मंडोर पुलिस ने 4 शातिरों को गिरफ्तार किया है। इनकी निशानदेही पर पुलिस ने 9 दुपहिया वाहन भी बरामद किए हैं। साथ ही गिरोह के बदमाशों द्वारा चुराई गई गाड़ियों के इंजिन व चैसिस नंबर मिटाने और उनकी जगह पर नए नंबर लिखने के उपकरण भी जब्त किए गए हैं। गिरोह से प्रारंभिक पूछताछ में ही मंडोर व आसपास के इलाकों में हुई वाहन चोरी की 11 वारदातों का खुलासा हुआ है।

डीसीपी (ईस्ट) डॉ. अमृता दुहन ने बताया कि शहर में लगातार हो रही वाहन चोरी की वारदातों पर अंकुश लगाने और ऐसे गिरोहों की धरपकड़ के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में एडीसीपी (ईस्ट) नाजिम अलीएसीपी (मंडोर) पीयूष कविया के निकट सुपरविजन में विशेष टीम गठित की गई। इसमें मंडोर थानाधिकारी विक्रमसिंह की अगुवाई में एएसआई ओमप्रकाश के साथ कांस्टेबल विशनाराम, जयपाल, नरसिंगराम व पांचाराम को शामिल किया गया।

टेक्निकल सर्विलांस व मुखबिरों का जाल बिछा 4 को पकड़ा

पुलिस की विशेष टीम ने टेक्निकल सर्विलांस के विभिन्न माध्यमों के साथ-साथ मुखबिरों का जाल बिछाया। इसी बीच एएसआई ओमप्रकाश को एक गिरोह के बारे में महत्वपूर्ण सुराग मिले। इस पर अमल करते हुए टीम ने कार्रवाई करते हुए शातिर वाहन चोर हरीश, लिखमाराम, महेंद्र व हासन खां को पकड़कर पूछताछ की, तो बदमाशों ने मंडोर थाना क्षेत्र व आससपास के इलाकों में एक के बाद एक कुल 11 वारदातें करना स्वीकार किया। बदमाशों की निशानदेही पर पुलिस ने 9 मोटर साइकिलें बरामद कर ली। तत्पश्चात बदमाशों को कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लेकर गहनता से पूछताछ शुरू की है।

इंजिन-चैसिस व गाड़ी के नंबर बदल 7-8 हजार में बेच देते

थानाधिकारी विक्रमसिंह ने बताया कि गिरोह के मास्टरमाइंड हरीश व लिखमाराम हैं, जो भीड़भाड़ वाले इलाकों में दुपहिया वाहनों की रैकी करते। इनमें एक निगरानी करता तो दूसरा कुछ ही पल में उस गाड़ी का लॉक तोड़ चोरी कर ले जाते। चोरी करने के बाद बदमाश उन गाड़ियों को महेंद्र मेघवाल के पास उसके वर्कशॉप पर ले जाते। वहां महेंद्र मेघवाल गाड़ी के इंजिन व चैसिस नंबर घिसकर मिटा देता और अपने पास रखे लोहे के फर्मों से दूसरे फर्जी नंबर अंकित कर देता था। इसके बाद बदले गए नंबरों वाली उन गाड़ियों के ग्राहक ढूंढकर इन्हें 7-8 हजार रुपए में बेच देते। उस राशि को ये तीनों बदमाश आपस में बांट लेते थे, जबकि हासन खां पुत्र सद्दीक खां ऐसी ही चोरी की मोटर साइकिलें खरीदता था।

वाहन चोर व खरीदार अब पुलिस रिमांड पर

एएसआई ओमप्रकाश ने बताया कि इस केस में मथानिया के भैंसेर कोतवाली निवासी हरीश मेघवाल (20) पुत्र नत्थूराम, करवड़ के खारडा मेवासा निवासी लिखमाराम जाट (20) पुत्र नारायणराम जाट, करवड़ के जूड़ मेघवालों का बास निवासी महेंद्र मेघवाल (23) पुत्र गिरधारीराम और शेरगढ़ के साबरसर में खेतसिंह नगर निवासी हासन खां पुत्र सद्दीक खां को गिरफ्तार कर कोर्ट से रिमांड पर लिया गया है।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!