34.8 C
Jodhpur

गैंगस्टर लॉरेंस के नाम पर 50-50 लाख रुपए की फिरौती मांगने वाला बदमाश गिरफ्तार

spot_img

Published:

– शहर के एक बिल्डर और एक ज्वैलर को दी थी वॉट्सएप मैसेज व वॉइस कॉल से धमकी

– लॉरेंस की आड़ लेकर आर्थिक तंगी से उबरने की फिराक में था आरोपी

नारद जोधपुर। शहर के एक बिल्डर और एक ज्वैलर को वॉट्सएप पर मैसेज व कॉल करके गैंगस्टर लॉरेंस के नाम से 50 लाख रुपए की फिरौती मांगने और नहीं देने पर जान से मारने की धमकी देने वाले बदमाश को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इन दोनों ही धमकी के संबंध में शहर के महामंदिर और शास्त्री नगर थाने में अलग-अलग प्रकरण दर्ज किए गए थे।

पुलिस कमिश्नर रविदत्त गौड़ ने बताया कि बीजेएस कॉलोनी निवासी पृथ्वीसिंह पुत्र दलपतसिंह ने महामंदिर थाने में एक रिपोर्ट दी थी। इसमें बताया गया कि उनका कंस्ट्रक्शन का काम है और रातानाडा ओल्ड लोको क्षेत्र दासपा हाउस में ऑफिस है। गत 16 सितंबर की शाम 7 बजे उनके मोबाइल पर एक वॉट्सएप मैसेज व कॉल आई। उस कॉल करने वाले अज्ञात शख्स ने खुद को लॉरेंस विश्नोई का गुर्गा बताते हुए दो दिन में 50 लाख रुपए की फिरौती मांगी और नहीं देने पर जान से मारने, सारा कारोबार बंद करवाने की धमकी देकर कॉल कट कर दी। इसी तरह, एक अन्य मामला शास्त्री नगर निवासी सवाईसिंह जैन पुत्र पुखराज शाह ने शास्त्री नगर थाने में दर्ज कराया। इसमें बताया गया कि उनकी पत्नी डिम्पल शाह के नाम से गोल्ड ज्वैलरी का कारोबार है। 16 सितंबर को डिंपल शाह के मोबाइल पर एक वॉट्सएप कॉल आई, जिसमें खुद को लॉरेंस विश्नोई का आदमी बताते हुए 50 लाख रुपए की फिरौती मांगी। ऐसा नहीं करने पर महिला कारोबारी को उठा लेने की धमकी दी। एक ही दिन में हुए ऐसे दो मामलों को गंभीरता से लेते हुए डीसीपी (पश्चिम) गौरव यादव और डीसीपी (पूर्व) डॉ. अमृता दुहन के निर्देशन में तत्काल टीमें गठित कर मामले की तह तक जाने के निर्देश दिए गए। संगीन मामले की तहकीकात के लिए एडिशनल डीसीपी (ईस्ट) नाजिम अली और एडिशनल डीसीपी (वेस्ट) चंचल मिश्रा के मार्गदर्शन में एसीपी (ईस्ट) दीपचंद व एसीपी (वेस्ट) नरेंद्र दायमा की अगुवाई में विशेष टीमें गठित गई। इनमें रातानाडा थानाधिकारी नरेश कुमार मीणा, शास्त्री नगर थानाधिकारी प्रदीप डांगा को शामिल किया गया।

फलोदी जिले का बदमाश, सूरत में छुपा, फिर भी बच नहीं पाया

दो कारोबारियों को धमकी भरे कॉल व मैसेज करने वाले बदमाश के नंबर मिलने के बाद पुलिस टीमें हरकत में आईं। पड़ताल में पता लगाने के साथ ही पुलिस की टीम सूरत तक जा पहुंची और वहां से पुलिस ने मूलतया फलोदी के उदाणियों की ढाणी निवासी हरिराम उर्फ हरीश विश्नोई (28) पुत्र हरचंद राम को पकड़ा। उसे जोधपुर लाकर पूछताछ की, तो बदमाश ने सब कुछ उगल दिया।

तस्कर ने आर्थिक तंगी दूर करने के लिए लॉरेंस की आड़ ली

पुलिस ने बदमाश हरीश विश्नोई से गहनता से पूछताछ की तो उसने बताया कि वह बेरोजगार है और आर्थिक तंगी खत्म करने के लिए लॉरेंस के नाम लेकर किसी से वसूली करने की प्लानिंग बनाई। इसके लिए उसने इंटरनेट पर जोधपुर के ज्वैलर व बिल्डर्स के नाम सर्च करके मोबाइल नंबर निकाल उन पर कॉल व मैसेज कर दिए। पुलिस इन्वेस्टिगेशन में यह भी सामने आया कि बदमाश हरीश के खिलाफ फलोदी के अलावा उदयपुर के सूरजपोल थाने में और मध्यप्रदेश के मल्हारगढ़ थाने में भी एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज हो रखे हैं।

पुलिस की विशेष टीम में ये रहे शामिल

साइबर क्राइम से जुड़े इस केस का खुलासा कर बदमाश को धर दबोचने में रातानाडा थानाधिकारी नरेश कुमार मीणा, एएसआई रघुवीरसिंह, साइबर सैल के एएसआई राकेशसिंह (अहम भूमिका), कांस्टेबल लादाराम, पूनाराम, जालमसिंह और दूसरी टीम में शास्त्री नगर थानाधिकारी प्रदीप डांगा के साथ हैड कांस्टेबल जब्बरसिंह, कांस्टेबल हेमाराम शामिल रहे।

#The criminal who demanded ransom of Rs 50-50 lakh in the name of gangster Lawrence, arrested

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!