34.2 C
Jodhpur

#Nexa Evergreen Dholera Case: शेखावाटी के ठगों ने निवेशकों के साथ जीएसटी के 205 करोड़ भी डकारे

spot_img

Published:

– नेक्सा एवरग्रीन धोलेरा ग्रुप, सीकर फ्रॉड केस: सीजीएसटी अलवर कमिश्नरेट टीम की जांच में खुलासा, जीएसटी योग्य 1140 करोड़ की अघोषित आय पर नहीं चुकाया जीएसटी

कमल वैष्णव. जोधपुर।

सीकर सहित देश के विभिन्न हिस्सों से लोगों के खून पसीने की कमाई को निवेश के बहाने 2700 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी करने वाले नेक्सा एवरग्रीन धोलेरो ग्रुप (Nexa Evergreen Dholera Group, Sikar) के बारे में एक और बड़ा खुलासा हुआ है और ये है 205 करोड़ रुपए की जीएसटी चोरी का। यह हकीकत सामने आई है सीजीएसटी कमिश्नरेट अलवर (CGST Commissionerate, Alwar) की जांच में। इसमें और भी कई चौंकाने वाली जानकारियां सामने आई है।

दरअसल, सीजीएसटी अलवर आयुक्तालय के प्रधान आयुक्त जयप्रकाश सिंह की निगरानी में अपर आयुक्त (कर अपवंचना) बसंत गढ़वाल की अगुवाई में एक टीम ने लोगों से हुई तकरीबन 2700 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी प्रकरण के संबंध में छानबीन शुरू की थी। चूंकि, नेक्सा एवरग्रीन धोलेरो ग्रुप के संचालकों पर लोगों को लुभावने सपने दिखाकर जमीन में निवेश के नाम पर करोड़ रुपए बटोरे गए थे। ऐसे लोगों को अपने जाल में फंसाने के लिए लोगों को कमीशन या पुरस्कार का लालच भी दिया गया, जिससे करोड़ों रुपए का निवेश ग्रुप को मिला।

तीन राज्यों में 30 फर्में बना कराया निवेश, जीएसटी भी डकार गए

सीजीएसटी सूत्रों के अनुसार नेक्सा एवरग्रीन धोलेरो ग्रुप के लोगों ने राजस्थान, गुजरात और दिल्ली में करीब 30 फर्में बनाकर इनका जीएसटी रजिस्ट्रेशन भी लिया था। इन्हीं में आम लोगों से निवेश कराया गया, लेकिन कोई भी जीएसटी विभाग को चुकाया ही नहीं। सेंट्रल जीएसटी टीम ने प्रारंभिक पड़ताल के बाद टैक्स चोरी के साक्ष्य सामने आने पर 25 सितंबर को अलवर टीम ने सीजीएसटी आयुक्तालय जयपुर-1 के अधिकारियों के साथ ग्रुप से जुड़े लोगों के ठिकानों पर जांच की, तो एकबारगी टीमें भी हैरान रह गईं। ग्रुप द्वारा किए गए कार्य जीएसटी के दायरे में आता है और प्रारंभिक स्तर पर ही 1140 करोड़ रुपए की जीएसटी योग्य अघोषित आय उजागर हुई है। इस पर 205 करोड़ रुपए की जीएसटी चोरी ग्रुप ने की है। फिलहाल, अलवर सीजीएसटी टीम ग्रुप के बारे में गहराई से छानबीन में जुटी हुई है।

2700 करोड़ निवेश, एक हजार करोड़ कमीशन बांटा

अपर आयुक्त गढ़वाल की टीम ने ग्रुप के ठिकानों पर रिकॉर्ड/डाटा खंगाले, तो पता चला कि नेक्सा एवरग्रीन धोलेरा ग्रुप सीकर में लोगों ने लगभग 2700 करोड़ रुपए निवेश किए थे। इस ग्रुप ने 5 प्रतिशत प्रशासनिक शुल्क के रूप में लगभग 140 करोड़ रुपए वसूल किए। हैरानी की बात तो यह भी सामने आई कि ग्रुप ने लगभग 1000 करोड़ रुपए उन लोगों को कमीशन/इनाम के रूप में दे दिए, जिन्होंने निवेश के लिए लोगों को ग्रुप के जाल में फंसाने में सहयोग किया था।

Shekhawati’s thugs also cheated 205 crores of GST

Nexa Evergreen Dholera Group, Sikar Fraud Case: CGST Alwar Commissionerate team’s investigation revealed, GST not paid on undisclosed income of Rs 1140 crore eligible for GST

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!