31.8 C
Jodhpur

मुख्यमंत्री गहलोत के ज्यूडिशियरी पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप, वकीलों ने जताया रोष #Judiciary #Corruption #Gehlot

spot_img

Published:

– बुधवार को गहलोत ने मीडिया से बात करते हुए न्यायपालिका व वकीलों पर संगीन आरोप

नारद जोधपुर। प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा बुधवार को न्यायपालिका और वकीलों पर भ्रष्टाचार जैसे संगीन आरोप लगाए जाने के बाद अधिवक्ताओं ने विरोध जताया है। मुख्यमंत्री के वक्तव्य का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद इस संबंध में भाजपा विधि प्रकोष्ठ के प्रदेश सह-संयोजक नाथूसिंह राठौड़ की अगुवाई में गुरुवार को अधिवक्ताओं ने राज्यपाल के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा।

प्रदेश सह-संयोजक नाथूसिंह राठौड़ ने इसमें बताया कि राजस्थान के मुख्यमंत्री द्वारा 30 अगस्त को मीडिया से बात करते हुए सम्पूर्ण न्यायपालिका व वकीलों पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि न्यायपालिका में बहुत भ्रष्टाचार व्याप्त है। न्यायालय के न्यायाधीश द्वारा जो फैसले दिये जाते है, वो भ्रष्टाचार से युक्त होते है और वकीलों द्वारा जो फैसला टाईप करवाकर न्यायाधीशों को दिया जाता है, वही न्यायालय निर्णय पारित करते हैं।  मुख्यमंत्री के इस बयान का भारतीय जनता पार्टी विधि प्रकोष्ठ कड़े शब्दों में भृत्सना कर निन्दा करता है। साथ ही महामहिम राज्यपाल से मुख्यमंत्री के गैर जिम्मेदाराना व न्यायपालिका को कंलकित करने वाले बयान पर विधि अनुसार कार्यवाही करने की मांग करता है। 

राठौड़ ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री का यह कथन बहुत ही शर्मनाक व पीड़ादायक है। वर्तमान समय में एकमात्र न्यायपालिका ही है, जिस पर एक पीड़ित व्यक्ति पूर्ण विश्वास कर न्याय की उम्मीद करता है। ऐसे में मुख्यमंत्री का यह कथन ना केवल न्यायपालिका को अपमानित करने का है, अपितु सम्पूर्ण वकील समुदाय के मान-सम्मान को धुमिल करने का एक प्रयास है। मुख्यमंत्री राजनैतिक द्वेष भावना के चलते कुछ भी अनर्गल बयान देकर न्यायपालिका को दूषित करने का प्रयास किया है। मुख्यमंत्री के उक्त बयानों से सम्पूर्ण भारत की जनता का न्यायपालिका पर विष्वास को प्रभावित करता है और न्यायपालिका की छवि पर प्रत्यक्ष रूप से ऐसे बयान देकर न्यायपालिका की अवमानना की है। इस अवसर पर पोकर राम बिश्नोई, जिला संयोजक, अभिषेक शर्मा, हाईकोर्ट इकाई संयोजक, अनिल गुप्ता, बाबुलाल बिश्नोई, जगदीष बिश्नोई, रामचन्द्र लेखावत, कुसुम प्रजापत, भुपेन्द्रसिंह गोटन, भागीरथ बिश्नोई, रविपाल सिंह राठौड़, श्यामलाल पुनिया, पुखराज बिश्नोई, होशियारसिंह सहित अन्य अधिवक्तागणम मौजूद रहे।

#Serious allegations of corruption on Chief Minister Gehlot’s Judiciary, lawyers expressed anger #jodhpur #CM_Ashok_Gehlot #Judiciary #Corruption

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!