29.7 C
Jodhpur

RBI ने बदले FD मैच्योरिटी नियम: बड़ी खबर! RBI ने फिर बदले FD के नियम, जानिए वरना होगा बड़ा नुकसान!

spot_img

Published:

FD के नियम बदले: RBI ने FD को लेकर नियमों में बदलाव किया है. इस बदलाव के बाद अगर मैच्योरिटी के बाद भी आपकी एफडी पर क्लेम नहीं किया जाता है और पैसा बैंक के पास रहता है तो आपको एफडी पर ब्याज का नुकसान उठाना पड़ सकता है। आइए जानते हैं अपडेट।

अगर आप भी करते हैं फिक्स्ड डिपॉजिट तो जान लें कि आरबीआई ने एफडी के नियमों में बड़ा बदलाव किया है। आरबीआई द्वारा एफडी के नए नियम भी प्रभावी हो गए हैं। एक तरफ जहां आरबीआई के रेपो रेट में बढ़ोतरी के बाद कई सरकारी और गैर सरकारी बैंकों ने भी एफडी पर ब्याज दरें बढ़ा दी हैं। इसलिए अगर आप भी एफडी करवाने जा रहे हैं, या करवा चुके हैं तो उससे पहले इस खबर को जरूर पढ़ लें। नहीं तो आपको नुकसान उठाना पड़ सकता है।

FD के मैच्योरिटी नियम में बदलाव

RBI ने फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) के नियमों में बदलाव किया है, अब अगर मैच्योरिटी पूरी होने के बाद रकम क्लेम नहीं करते हैं तो उस पर कम ब्याज मिलेगा.
– आपको मिलने वाला ब्याज सेविंग अकाउंट पर मिलने वाले ब्याज के बराबर होगा।
मौजूदा समय में बैंक आमतौर पर 5 से 10 साल की लंबी अवधि वाली एफडी पर 5 फीसदी से ज्यादा ब्याज देते हैं।
वहीं, सेविंग्स अकाउंट पर ब्याज दरें करीब 3% से 4% के बीच हैं।

आरबीआई ने आदेश दिया

आरबीआई के मुताबिक, . नया नियम सभी वाणिज्यिक बैंकों, छोटे वित्त बैंकों, सहकारी बैंकों, स्थानीय क्षेत्रीय बैंकों में जमा राशि पर लागू होगा। यदि सावधि जमा परिपक्व हो जाती है और राशि का भुगतान नहीं किया जाता है या दावा नहीं किया जाता है, तो बचत खाते पर लागू ब्याज दर या परिपक्व एफडी के लिए निर्धारित ब्याज दर, जो भी कम हो, दी जाएगी।

जानिए क्या कहते हैं नियम?

उदाहरण के लिए यह समझ लें कि अगर आपने 5 साल की मैच्योरिटी वाली एफडी कराई है, जो आज मैच्योर हो गई है, लेकिन आप यह पैसा नहीं निकाल रहे हैं, तो दो स्थितियां होंगी।

1. अगर FD पर मिलने वाला ब्याज उस बैंक के सेविंग अकाउंट पर मिलने वाले ब्याज से कम है तो आपको FD का ही ब्याज मिलता रहेगा.

2. अगर एफडी पर मिलने वाला ब्याज सेविंग अकाउंट पर मिलने वाले ब्याज से ज्यादा है तो सेविंग अकाउंट पर मैच्योरिटी के बाद मिलने वाला ब्याज आपको मिलेगा.

पहले क्या थे नियम

अब अगर पहले के नियम की बात करें तो पहले जब आपकी एफडी मैच्योर होती थी और अगर आप उसका पैसा नहीं निकालते थे या क्लेम नहीं करते थे तो बैंक आपकी एफडी को उतनी ही अवधि के लिए बढ़ा देता था जितनी अवधि के लिए आपने पहले एफडी की थी। अब ऐसा नहीं है। अब अगर आप मैच्योरिटी पर पैसा नहीं निकालते हैं तो आपको उस पर एफडी का ब्याज नहीं मिलेगा, इसलिए बेहतर होगा कि आप मैच्योरिटी के तुरंत बाद पैसा निकाल लें। यह नया नियम प्रभावी हो गया है।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!