16.9 C
Jodhpur

प्रधानमंत्री मोदी 6 अगस्त को करेंगे जोधपुर व जैसलमेर रेलवे स्टेशन के रिडवलपमेंट का शिलान्यास

गहलोत को चुनौती देने के लिए रेलवे के विकास पर फोकस, अमृत योजना के दर्जनों स्टेशन भी होंगे इसमें शामिल

spot_img

Published:

प्रवीण धींगरा
जोधपुर। राजस्थान में कुछ माह बाद विधानसभा चुनाव होने हैं। गहलोत सरकार अपनी योजनाओं से लोगों को लाभांवित कर वोट बैंक तैयार कर रही है, जिसको लेकर भाजपा में भी काफी मंथन लगातार चल रहा है। गहलोत की योजनाओं को चुनौती देने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राजस्थान में रेल के जरिए विकास की यात्रा दिखाने की कोशिश में लगे हैं। पहले दो वंदे भारत चलाई, अब छह अगस्त को प्रस्तावित कार्यक्रम में वे वर्चुअल रूप से जोधपुर, जैसलमेर, जयपुर व गांधीनगर स्टेशन के रिडवलपमेंट के मेजर प्रोजेक्ट के साथ अमृत भारत योजना के तहत चिह्नित उत्तर-पश्चिम रेलवे जोन के 46, जिनमें जोधपुर के 15 स्टेशन भी शामिल हें, का शिलान्यास करेंगे। रेलवे प्रशासन ने इसके लिए तैयारी शुरू कर दी है। सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे, अतिथि भी बुलाए जाएंगे।

138 साल बाद बदल रही जोधपुर स्टेशन की सूरत

आजादी से पहले राजशाही के दौर में बना जोधपुर स्टेशन समय के साथ चमकता गया लेकिन इसकी बिल्डिंग में खास बदलाव नहीं हुआ। अब रेलवे की रिडवलपमेंट योजना के तहत जोधपुर स्टेशन को एयरपोर्ट की तरह आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित किया जाएगा। रेलवे इस प्रोजेक्ट पर करीब 500 करोड़ रुपए खर्च कर रहा है। नई बिल्डिंग का नक्शा तैयार हो गया था, जिसमें कुछ सुधार के साथ अब मूर्त रूप देने की तैयारी है। रेल भूमि विकास प्राधिकरण द्वारा कार्य का LOA बेंगलुरु की कंस्ट्रक्शन कंपनी को जारी कर दिया गया है। कंपनी द्वारा प्रतिनिधि नियुक्त कर स्टेशन विकास के लिए संसाधन जुटाने के प्रयास प्रारंभ कर दिए गए हैं। वर्तमान जोधपुर स्टेशन पर मल्टीस्टोरी बिल्डिंग का निर्माण प्रस्तावित है। मुख्य स्टेशन भवन में मल्टी लेवल कार पार्किंग, आगमन/ प्रस्थान हेतु अलग-अलग गेट, सुरक्षा जांच क्षेत्र, 72 मीटर चौड़ाई का कॉन्कोर्स एरिया सहित 32 नई लिफ्ट एवं 16 नये एस्केलेटर लगाकर मौजूदा संख्या को बढ़ाया जाएगा। स्टेशन पर मौजूद दोनों फुटओवर ब्रिज को स्काई वॉक से जोड़ा जाएगा।

स्टेशन पर अनारक्षित प्रतीक्षालय, एक्जिक्यूटिव प्रतीक्षालय, खुदरा स्टालें, शौचालय, शिशु आहार कक्ष के साथ ही समस्त प्रकार की आधुनिक यात्री सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी। जोधपुर स्टेशन का संपूर्ण पुनर्विकास सूर्यनगरी की समृद्ध विरासत को विभिन्न स्थापत्य तत्वों और विशेषताओं जैसे पीले पत्थर की जाली कार्य, मेहराब, गुंबद, छतरी, झरोखा, बारादरी, मेहराब, अलंकरण, पत्थर का काम, पत्थर का आवरण, आदि के माध्यम से किया जाएगा। पूरी परियोजना में निर्माण के साथ-साथ संचालन और रखरखाव के दौरान ऊर्जा खपत में कमी के लिए सुविधाओं के साथ ग्रीन बिल्डिंग सुविधाएं होंगी, जो नवीनीकरणीय ऊर्जा के साथ कचरे के प्रसंस्करण, वर्षा जल संचयन आदि जैसे संसाधनों युक्त होगी। स्टेशन विकास कार्य हेतु मौजूदा रेलवे कार्यालयों को अस्थाई तौर पर अन्य स्थानों पर स्थानांतरित किया जाएगा। स्टेशन पुनर्विकास का कार्य चार से पांच चरणों में पूरा किया जाएगा। स्टेशन पुनर्विकास का यह कार्य 3 वर्ष में पूरा कर लिया जाएगा।

सोने सा चमकेगा जैसलमेर रेलवे स्टेशन

रेलवे द्वारा जैसलमेर स्टेशन का 140 करोड़ रूपये की लागत से अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत विश्वस्तरीय पुनर्विकास किया जा रहा है। देशभर से जैसलमेर आने वाले पर्यटको को स्टेशन के पुनर्विकास होने से अनेक यात्री सुविधाओं के साथ अलग अनुभूति मिलेगी। इसके साथ-साथ सेना के जवानों को अपने कार्यस्थल पर आवागमन के लिये विश्वस्तरीय स्टेशन की सुविधा भी उपलब्ध होगी। वर्तमान में जैसलमेर स्टेशन की पुरानी बिल्डिंग को तोडकर नई बिल्डिंग के लिये खुदाई का कार्य पिलिन्थ लेवल का कार्य हो गया है और बिल्डिंग कॉलम का कार्य कर चुनाई का काम चल रहा है। जैसलमेर स्टेशन पर लगभग 48000 वर्ग मीटर क्षेत्र में विकास किया जायेगा। स्टेशन पर 8327 वर्ग मीटर क्षेत्र में मुख्य स्टेशन बिल्डिंग का निर्माण किया जायेगा। स्टेशन के पुनर्विकास में राजस्थानी हैरिटेज और आधुनिकता के समावेश से इसे आकर्षक लुक प्रदान किया जायेगा। मुख्य स्टेशन बिल्डिंग में आगमन/प्रस्थान हेतु अलग-अलग प्रवेश व निकास द्वार, 1000 वर्ग मीटर से अधिक क्षेत्रफल में एयर कोनकॉर्स, कवर्ड प्लेटफार्म, लिफ्ट व एस्केलेटर की सुविधा, फुट ओवर ब्रिज, अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित वेटिंग रूम, शॉपिग कॉम्पलेक्स, एग्जीक्यूटिव लाउंज, उन्नत व मानक स्तर की लाइटिंग, फुड कोर्ट इत्यादि का प्रयोजन रखा गया है। इसके साथ ही स्टेशन पर पर्याप्त व सुव्यवस्थित पार्किंग सुविधा, दिव्यांगजन अनुकूल सुविधाएं, संकेतक, शौचालय, बेगेज स्कैनर, मैटल डिटेक्टर तथा कोच गाइडेन्स बोर्ड व ट्रेन इन्डिकेटर इत्यादि के साथ समस्त प्रकार की आधुनिक यात्री सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी। ऊर्जा खपत में कमी के लिए ग्रीन बिल्डिंग आधारित सुविधाएं होंगी, जो नवीनीकरणीय ऊर्जा के साथ कचरे का उचित निस्तारण, वर्षा जल संचयन आदि जैसे संसाधनों से युक्त होगी। स्टेशन पर हरित और पर्यावरण अनुकूल सौर ऊर्जा प्लांट भी स्थापित किया जाएगा।

जोधपुर मंडल के  इन स्टेशनों का हो सकता है शिलान्यास
बालोतरा, बाड़मेर, देशनोख, सुजानगढ़, जैसलमेर, रामदेवरा, फलोदी, गोटन, डीडवाना, डेगाना, नागौर, रेण, मेड़तारोड, नोखा, जालोर व भीनमाल

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!