18.2 C
Jodhpur

पुलिस-पब्लिक एनजीओ शीघ्र ही राजस्थान में कार्य करेगा

spot_img

Published:

जोधपुर। पुलिस पब्लिक एनजीओ शीघ्र ही अपनी गतिविधियों को विस्तार देगा एवं पूरे देश के विभिन्न राज्यों में सेवा केन्द्रों की स्थापना की जाएगी। देश की राजधानी दिल्ली में कार्यरत यह एनजीओ देश के सर्वोच्च न्यायालय के मुखिया व राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के पूर्व अध्यक्ष जस्टिस के.जी. बालकृष्णन की अध्यक्षता मे कार्यरत है। इसके उपाध्यक्ष, उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव डी. डी. मिश्रा, सचिव देवदत्त (आईएएस) की अगुवाई मे गठित इस एनजीओ का संपूर्ण संचालन देश की राजधानी दिल्ली से प्रभावी रूप से किया जाएगा।
कल दिल्ली में इसकी राष्ट्रव्यापी जिम्मेदारियों को बाटने, कार्यशैली, अधिकार, दायित्व व प्रशासनिक, आर्थिक निर्णय शक्तियों को केंन्द्र में रख विचार विमर्श किया गया। बैठक की अध्यक्षता करते हुए अध्यक्ष जस्टिस बालकृष्णन ने कहा कि वर्तमान परिपेक्ष्य में जहां आमजन व पुलिस के मध्य एक प्रभावी सेतु की नितान्त आवश्यकता है, वही आमजन के मन में पुलिस की छवि को लेकर कार्यशैली को लेकर जो भ्रातियां है, दुविधाए है उन्हें दूर करना पब्लिक फ्रेडली पुलिस व पुलिस सर्पोटिंग पब्लिक की तर्ज पर कार्य किया जाएगा।
बैठक में जोधपुर का प्रतिनिधित्व करने के लिए इलीट पीपल जोधपुर क्लब के अध्यक्ष अशोक मोदी को आमंत्रित किया गया था। मोदी ने बताया कि बैठक मे यह सुझाव भी आये कि अपराधों में कमी, आधुनिकतम तकनीक के प्रयोग व लक्ष्य निर्धारित कर कार्य किया जाएगा व इस क्रम मे आमजन को जागरूक करने के लिए कार्यक्रम किए जाएंगे, पुलिस की मदद के लिए पुलिस स्टेशनो पर सुविधा केन्द्र स्थापित किए जाएंगे ।मोदी ने बताया की बैठक में यह भी चर्चा की गयी कि एनजीओ द्वारा पूरे देश के विभिन्न राज्यों में एक या दो स्थानो से पायलट प्रोजक्ट प्रारंभ किए जाए। बाद में केन्द्रों से प्राप्त फीडबैक, जनता का अनुभव व राज्यों की पुलिस से चर्चा कर धीरे-धीरे केन्द्रों का अन्य जिलो में विस्तार किया जाएगा।मोदी ने बताया कि यह एनजीओ आगामी समय में वरिष्ठ नागरिकों के कल्याण हेतु भी केन्द्र सरकार के समय अपनी विस्तृत मांग प्रस्तुत करना चाहता है। सभा में देश में रह रहे चालीस प्रतिशत वरिष्ठ नागरिको के बारे में गभीरता से विचार करने, नीति बनाने, भरण पोषण की व्यवस्था, कानूनी बाध्यताओं को दूर कर वृद्ध माता-पिताओं के बच्चों को उनकी देखभाल हेतु कानून सम्मत प्रयोग व प्रयास के बारे में चर्चा की गयी ।

Police-Public NGO will soon work in Rajasthan

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!