37.3 C
Jodhpur

छह माह में मोदी की सातवीं राजस्थान यात्रा, शेखावाटी की बीस सीटों पर फोकस

spot_img

Published:

जोधपुर. राज्य विधानसभा चुनाव में अब कुछ माह शेष है। भाजपा(BJP) ने अपना पूरा ध्यान राजस्थान(Rajasthan) पर केन्द्रित कर रखा है। भाजपा की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी(PM Narendra Modi) छह माह में सातवीं बार आज राजस्थान आ रहे है। सीकर यात्रा के माध्यम से मोदी शेखावाटी की बीस विधानसभा क्षेत्रों को साधने का प्रयास करेंगे। गत चुनाव में कांग्रेस ने शेखावाटी की बीस में से 15 पर कब्जा जमाया था। भाजपा को महज तीन सीट ही मिल पाई थी।
इस साल के अंत में चार राज्यों में चुनाव प्रस्तावित है। इन चारों राज्यों में से मोदी सबसे अधिक राजस्थान की यात्रा कर रहे है। प्रदेश में भाजपा के कई खेमे बने हुए है। ये सभी खेमे एक-दूसरे की टांग खिंचाई का कोई मौका नहीं गंवाते। सभी को एकजुट करने में विफल रहने के बाद अब मोदी ने खुद राजस्थान की बागडोर अपने हाथ में ली है। ताकि उनके लगातार दौरों से गुटबाजी समाप्त हो सके और पार्टी के सभी खेमे एकजुट होकर चुनाव मैदान में उतर सके।
नजर जाट बेल्ट पर
शेखावाटी जाट बेल्ट(Jat Belt) माना जाता है। मोदी अपनी यात्रा के माध्यम से प्रदेश के जाटों को साधने का प्रयास करेंगे। दिल्ली में चले किसान आंदोलन और महिला पहलवानों से जुड़े मामलों को लेकर जाटों की नाराजगी अभी तक दूर नहीं हो पाई है। वहीं चुनाव से पहले भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया(poonia) को हटाने से भी जाटों में गलत संदेश गया। ऐसे में मोदी का प्रयास रहेगा कि प्रदेश के सबसे अहम जातीय समूह को एक बार फिर पार्टी से जोड़ा जाए। वहीं प्रदेश के जाट लैंड में गत चुनाव में कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन किया था। जाटों को साधने के लिए मोदी की आज की यात्रा पहले नागौर(nagaur) के खरनाल में प्रस्तावित थी, लेकिन कुछ कारणों से उनकी खरनाल(kharnal) में सभा को स्थगित कर सीकर में सभा कराई जा रही है।
मोदी को आगे रख चुनाव लड़ेगी भाजपा
प्रदेश में भाजपा की बढ़ती गुटबाजी जगजाहिर है। पार्टी नेतृत्व भरसक प्रयास के बावजूद इस पर लगाम नहीं कस पाया है। ऐसे में गुटबाजी से बचने के लिए पार्टी ने स्पष्ट कर दिया कि विधानसभा चुनाव में किसी को सीएम फेस घोषित नहीं किया जाएगा। आगामी चुनाव मोदी को आगे रख उनके नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा। ऐसे में मोदी के राजस्थान दौरे लगातार बढ़ते जा रहे है।
सबसे ज्यादा उम्मीद राजस्थान से
इस साल के अंत तक राजस्थान, मध्य प्रदेश, छतीसगढ़, मिजोरम व तेलंगाना में विधानसभा चुनाव होने है। राजनीतिक विशलेषकों का मानना है कि भाजपा को इन पांच राज्यों में से सबसे अधिक उम्मीद राजस्थान से है। मध्य प्रदेश, छतीसगढ़, मिजोरम व तेलंगाना में भाजपा को कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। राजस्थान में फिलहाल मुकाबला बराबरी का लग रहा है। ऐसे में मोदी सहित पार्टी ने अपना पूरा फोकस राजस्थान पर बढ़ा दिया है।
शेखावाटी में कमजोर है पार्टी
शेखावाटी के चूरू, सीकर व झुंझुनूं जिलों में बीस विधानसभा क्षेत्र है। इनमें से गत चुनाव में 15 पर कांग्रेस ने कब्जा जमाया था। भाजपा को तीन सीट से संतोष करना पड़ा था। एक सीट पर अन्य महादेव खंडेला और एक पर बसपा से राजेन्द्र सिंह गुढ़ा विजयी रहे थे। बाद में गुढ़ा कांग्रेस में शामिल हो गए और मंत्री बनाए गए। कुछ दिन पूर्व ही उन्हें मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया गया।
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष का क्षेत्र
कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष गोविन्दसिंह डोटासरा शेखावाटी के है। माना जाता है कि उन्होंने शेखावाटी में अपनी पकड़ काफी मजबूत की है। ऐसे में आज मोदी अपने सीकर की सभा के माध्यम से गहलोत के साथ-साथ डोटासरा पर निशाना साधेंगे।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!