31.8 C
Jodhpur

पूर्व महारानी हेमलता राजे की रामदेवरा तक पदयात्रा: तिंवरी में अभूतपूर्व स्वागत

spot_img

Published:

– मारवाड़ी साफा पहने स्टूडेंट्स और बालिकाओं की पुष्पवर्षा से अभिभूत हुए मेहमान

नारद तिंवरी। स्वामी अचलानंद गिरि महाराज के सान्निध्य व महारानी हेमलता राजे के नेतृत्व में पैदल यात्रियों के संघ के रविवार को तिंवरी पहुँचने पर ग्रामीणों ने पुष्प वर्षा, माल्यार्पण कर अभूतपूर्व स्वागत किया। पूर्व विधायक भैराराम सियोल, शेरगढ़ के पूर्व विधायक बाबूसिंह राठौड़, महेंद्रसिंह उम्मेदनगर, गोपालसिंह भलासरिया, रामनिवास मंडा के साथ पैदल यात्रा सवेरे 7 बजे बालरवा से रवाना हुई। इनके तिंवरी में प्रवेश करते ही राजपूत समाज राम रसोड़े व माली समाज राम रसोड़े पर स्वागत द्वार लगाकर भव्य स्वागत किया गया। ततपश्चात मथानिया चौराहे पर ग्राम पंचायत व सैन समाज की ओर से पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया। यहां से राजकीय स्कूल के सामने सैनाचार्य व महारानी राजे सहित संघ का साफा पहने स्टूडेंट्स व बालिकाओं द्वारा अभूतपूर्व पुष्पवर्षा देखकर हर कोई अभिभूत हो गए। तत्पश्चात यात्रा वीर गुमानसिंह चौक पहुंची। जहां महारानी हेमलता राजे ने यहां तिंवरी के वीर गुमानसिंह राजपुरोहित के शौर्य स्मारक का अनावरण किया। गौरतलब है कि वर्तमान में मेहरानगढ़ किले की तलहटी पर इनका मुख्य स्मारक भी बना हुआ है।  तिंवरी में अखेराजोत परिवार द्वारा इस भव्य स्मारक का निर्माण करवाया गया है। यहां से पैदल यात्रा ने मुख्य बाजार में प्रवेश किया,बाजार में जगह,जगह स्वागत द्वार लगाकर व पुष्प वर्षा के साथ ग्रामीणों ने स्वागत किया।

प्रेम और खुशहाली के लिए निकाली जा रही है यात्रा

पूर्व महारानी हेमलता राजे ने स्वागत समारोह के दौरान कहा कि देश में खुशहाली, अमन-चैन रहे। प्रेम और भाईचारा बना रहे। इसी उद्देश्य के साथ यह यात्रा निकाली जा रही है। सैनाचार्य अचलानंद गिरी ने बताया मानव कल्याण, पर्यावरण संरक्षण और नशा मुक्ति और जन चेतना, माता-पिता की सेवा, मानव धर्म में एकता को लेकर यह पद यात्रा निकाली जा रही है। इस यात्रा में सभी धर्म और जाति की महिलाएं और पुरुष शामिल है।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!