46.1 C
Jodhpur

ओबीसी आरक्षण का मुद्दा: बिश्नोई समाज का ऐलान, केंद्र सरकार के सांसदों के कार्यालय का करेंगे घेराव

spot_img

Published:

– संघर्ष समिति अध्यक्ष ने कहा – आरक्षण हमारा हक, इसके लिए कुछ भी कर गुजरने से गुरेज नहीं करेंगे

नारद जोधपुर। केंद्रीय ओबीसी में आरक्षण की मांग को लेकर बिश्नोई समाज की मुहीम तेजी से रफ्तार पकड़ती नजर आ रही है और इसी क्रम में अब समाज ने केंद्र सरकार के सांसदों के कार्यालय घेराव का ऐलान कर दिया है। यह निर्णय जोधपुर स्थित डाक बंगले में बिश्नोई समाज की संघर्ष समिति की बैठक में लिया गया।

समिति के प्रदेश अध्यक्ष विक्रमसिंह खोखर ने बताया कि सदियों से किसान कौम जीव रक्षा पर्यावरण को सबसे बड़ा धर्म मानता चला आ रहा है। इसी किसान कौम को सेवा संबंधित आरक्षण देने के लिए केंद्र सरकार को जगाने के लिए बिश्नोई समाज अब कथा, जागरण में पहुंच-पहुंचकर संघर्ष समिति को मजबूत करने में जुट चुकी है। प्रदेशाध्यक्ष खोखर के अनुसार आरक्षण हमारा हक है और इसके लिए कुछ भी करना पड़ा, तो हम उसके लिए तैयार हैं।

पहले सोशल मीडिया, अब लिखेंगे 5 लाख पोस्टकार्ड

खोखर ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि आरक्षण के मुद्दे पर हम हर जगह बैठक करेंगे। साथ ही प्रधानमंत्री (Prime Minister) तक समाज की बात को पहुंचाने के लिए युवाओं ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म Twitter पर अभियान चलाया गया, तो अमावस्या को सद्बुद्धि यज्ञ किया गया। इसी की अगली कड़ी में अब पोस्ट कार्ड अभियान चलाएंगे, जिसमें तकरीबन 5 लाख पोस्ट कार्ड लिखकर प्रधानमंत्री को भेजे जाएंगे।

युवा पीढ़ी अपना हक लेकर रहेगी

राजस्थान संघर्ष समिति के संयोजक सहीराम मांजू ने कहा कि बिश्नोई समाज आज से कई वर्षों पहले से आरक्षण पाने के योग्य रहा है, लेकिन हमारी कमजोरी की वजह से हमें यह अधिकार नहीं मिल पाया। इसका खामियाजा हमारे पीढ़ियों को भुगतना पड़ रहा है, खासकर युवा वर्ग को इसका नुकसान हो रहा है। उन्हें केंद्र की नौकरियों का फायदा हमें नहीं मिल पाने से यूपीएससी परीक्षाओं में एक अंक कम की वजह से  पीछे रह जाते हैं। यदि चयन हो जाता है तो हमको राजस्थान कैडर नही मिल पाने से हमको बाहर जाकर नौकरी करनी पड़ रही है।

राज्य सरकार ने आरक्षण दिया, समाज की मांग पर केंद्र को सिफारिश भी भेजी

बैठक में राजस्थान सरकार में मंत्री सुखराम बिश्नोई ने कहा कि पूर्व में राज्य में आरक्षण दिया गया और समाज की मांग पर केंद्र में भी आरक्षण दिलाने के लिए राजस्थान सरकार ने केंद्र को सिफारिश भेजी थी। इसके बावजूद केंद्र सरकार ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया और वह सिफारिश अक्की पड़ी है। इसी अधिकार के लिए यज्ञ उपवास भी करना पड़ेगा। सेवानिवृत आरएएस सुरेंद्र कड़वासरा ने कहा कि आरक्षण तो 23 साल पहले ही मिल जाना चाहिए था, लेकिन मजबूती से पैरवी नहीं होने की वजह से ऐसा हो नहीं पाया। सरकार द्वारा पूर्व में भेजी गई रिपोर्ट को खारिज कर दिया गया, जो अभी संघर्ष करते हुए पुन:र्जीवित किया गया।

हर वक्ता की सहमति: सांसदों से कराएंगे सिफारिश

बैठक में एक स्वर में सभी वक्ताओं व अन्य समाजबंधुओं ने इस बात पर सहमति जताई कि केंद्र सरकार के जो भी सांसद हैं, उनमें राजस्थान में बिश्नोई समाज से प्रभावित होने वाले सांसद से मिलकर बिश्नोई समाज को आरक्षण की सिफारिश करानी पड़ेगी और वे इसके लिए नहीं मानते हैं, तो उनके कार्यालय का घेराव करने में भी संकोच नहीं करेंगे।

चुनाव से पहले माने तो ठीक, अन्यथा…

बैठक में तय किया गया कि राजस्थान में अभी चुनाव होने वाले हैं। इन विधानसभा चुनावों से पहले केंद्र सरकार बिश्नोई समाज की आरक्षण की मांग को मान ले, अन्यथा समाज एकजुट होकर इनका सहयोग भी नहीं करेगा। यहां तक कि इनका खुलेआम बहिष्कार भी करेंगे।

ये भी रहे बैठक में मौजूद

बैठक में डॉ. हीरालाल बिश्नोई पूर्व विधायक सांचौर, भीखाराम सारण, भूपेंद्र बिश्नोई, परसराम रामसिंह खोखर तिलवासनी,  रामलाल गोदारा फिंच डेयरी चेयरमैन, प्रवीण साऊ, ओमप्रकाश ढाका, अशोक गोदारा सिरमंडी ओसियां, अभिषेक बांगडवा जोधपुर, भेराराम भादू नागौर, रामनिवास बुधनगर , सुरजनराम साहू जिला प्रधान जालौर, बीरबल राम पूनिया पार्षद सांचोर आसुराम गोदारा हाडेचा, हरिकिशन साऊ सिवाड़ा, सुखराम खोखर सांचौर, गोरधन राम  सांचौर, नरेश सारण सहायक प्रोफ़ेसर महाविद्यालय चितलवाना, अशोक कुमार सहायक प्रोफेसर कुड़ी भगतासनी, जयकरण खिलेरी भीनमाल, पूनमचंद विश्नोई बाछड़ा, धनजी, प्रदीप मांजू, अशोक पंवार, पूनमचंद विशनोई, रामगोपाल धायल, रामावतार मांजू, भाखराराम मांजू, बाबुलाल बागोड़ा, भंवरलाल सीबीएओ, रामनिवास साऊ, मंगलाराम खोखर, सुनील साऊ, सरपंच मणीलाल मांजू भामाशाह सदराम वकील गंगाराम पुनिया भागीरथ ऑक्सफोर्ड कॉलेज सुरेंद्र साऊ जयकिशन खिलेरी जगमाल जानी जगमाल गोदारा तेजाराम मॉन्जु राणाराम साऊ मोहनलाल कुराड़ा आर भगवानाराम भालनी पूनमचंद गोदारा सेवानिवृत्त परावा बुधाराम सरपंच सरनाऊ  सुजानाराम सारण सहित जालौर, भीनमाल, बागोड़ा, सरनाऊ, चितलवाना, जोधपुर, बाड़मेर, फलोदी, नागौर, रोटू, रुडकली, जांम्भा, बीकानेर, रानीवाड़ा व अन्य गांव-कस्बों कई अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद थे। जगदीश गोदारा की टीम ने तांबे के लौटे से जलपान की व्यवस्था बखूबी पूरी की।

#OBC reservation issue: Announcement of Bishnoi Samaj, will encirclement the office of central government MPs #Bishnoi #OBC #Reservation #naradonline

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!