भीमा कोरेगांव में हुए दलित अत्याचार को लेकर राष्ट्रपति के नाम सौंपा ज्ञापन

127

नरेश राव, धोरीमन्ना

बाड़मेर टाइम्स नेटवर्क 

धोरीमन्ना- 1 जनवरी 2018 को महाराष्ट्र के भीमा कोरेगाव में दलित समुदाय द्वारा शांतिपूर्वक रूप से शौर्य दिवस के दौरान असामाजिक तत्वों ने साजिश के तहत दलित समुदाय के लोगों को दौड़ा-दौड़ा कर मारा पीटा। जिसमें एक व्यक्ति की मौत भी हो गई। इस अमानवीय-जातीय हिंसा की आग धीरे-धीरे संपूर्ण देश में बढ़ रही है। जो संपूर्ण मानव जाति के माथे पर कलंक है।

इस पूरे घटनाक्रम को लेकर राष्ट्रपति के नाम लिखित ज्ञापन धोरीमन्ना उपखंड अधिकारी को सौंपकर मांग की गई है कि इस घटना के पीछे कार्यरत असामाजिक तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाए। घटनाक्रम को लेकर के जिस प्रकार की
संवेदनहीनता महाराष्ट्र सरकार ने दिखाई है वो न्यायोचित नहीं है। ज्ञापन मे महाराष्ट्र की भाजपा सरकार को तुरंत प्रभाव से बर्खास्त करते हुए राष्ट्रपति शासन लगाना एवं दलितों को न्याय दिलाने की मांग की गई है।

इस दौरान दिनेश कुलदीप अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस कमेटी धोरीमन्ना, जयराम कुलदीप उप प्रधान पंचायत समिति धोरीमन्ना, कांग्रेस IT सेल संयोजक डीआर गोयल, अंबेडकर सेवा समिति धोरीमन्ना के अध्यक्ष चेतनराम नामा, वार्ड पंच अशोक कुलदीप, मेघवाल समाज के जिला अध्यक्ष सुरताराम जयपाल, कैलाश नामा, सोहनलाल नामा, केसर सिंह नामा, धूड़ाराम बिश्नोई, गणेशाराम, किसनाराम बिश्नोई रोहिल्ला पूर्व, विक्रम कुलदीप, राणा राम मेघवाल राणासर कला, नारणाराम अहमंपा सहित कई दर्जनों ग्रामीणों ने देश में फैल रही जातीय वैमनस्यता के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने की मांग की है।