16.9 C
Jodhpur

घर-घर जन्मे कान्हा, मंदिरों में देर रात तक रही नंद उत्सव की धूम

spot_img

Published:

नारद लूणी। कस्बे सहित क्षेत्र में भगवान कृष्ण के जन्म की खुशियां घर-घर मनाई गई। रात 12 बजते ही घरों और मंदिरों में गूंजा हाथी घोड़ा पालकी, जय कन्हैया लाल की। इधर धुंधाड़ा कस्बे के ठाकुरजी के मंदिर पर आयोजित वार्षिक धार्मिकोत्सव में 20 फीट ऊंची कान्हा की मटकी फोड़ी गई। कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर हर साल की तरह इसबार भी कस्बे के प्राचीन ठाकुरजी के मंदिर परिसर में धार्मिक आयोज रखा गया। इस दौरान मंदिर में विराजमान ठाकुरजी एवं अन्य देव प्रतिमाओं का आकर्षकृ शृंगार किया गया। साथ ही मंदिर परिसर को रोशनी से सजाया गया। इस दौरान सायं से मध्य रात्रि तक भक्ति संध्या का आयोजन किया गया जिसमें कई प्रसिद्ध भजन गायक कलाकारों ने भजनों की आकर्षक प्रस्तुतियां दी। वहीं रात्रि ठीक बारह बजे “नंद के घर आनंद भ्यो-जय कन्हैयालाल की “जैसे गगन भेदी जयकारों से श्री कृष्ण के जन्म की एक दूसरे को बधाईयां देने के साथ पूरा मंदिर परिसर भक्तिमय हो गया। मंदिर में बाल गोपाल श्री कृष्ण की प्रतिमा पर नाना प्रकार के द्रव्यों से अभिषेक कर शृंगार किया गया। मंदिर के पुजारी राधेश्याम दास के सानिध्य में भक्तों द्वारा आधी रात को महाआरती की गई।

20 फीट ऊंची मटकी फोडऩे का रोमांच

ठाकुरजी के मंदिर परिसर में हर साल की तरह इस बार भी दही हांडी प्रतियोगिता का आयोजन रखा गया। इसबार दही हांडी को करीब बीस फुट उंची बांधी गई। युवा श्रद्धालुओं द्वारा तीसरे प्रयास में दही हांडी को फोड़ा गया। जिन्हें पुरस्कृत किया गया।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!