20 C
Jodhpur

गैंगस्टर लॉरेंस की फोटो वॉट्सएप डीपी बना व्यापारी से मांगी 5 लाख की रंगदारी, जोधपुर पुलिस ने बाड़मेर से धर दबोचा

spot_img

Published:

– विदेशी नंबरों से वॉट्सएप पर किया था वॉइस कॉल, रुपए नहीं देने पर शॉप पर फायरिंग करने की दी थी धमकी

नारद जोधपुर। सोशल मीडिया पर गैंगस्टर लॉरेंस की फोटो निकालकर उसे खुद की वॉट्सएप डीपी बनाकर जोधपुर के एक व्यापारी से 5 लाख रुपए की रंगदारी मांगने के मामले में कार्रवाई करते हुए सरदारपुरा पुलिस ने एक जने को बाड़मेर से धर दबोचा। बाद में पता चला कि वह नाबालिग है, तो उसे संरक्षण में लेकर अग्रिम कार्रवाई शुरू की गई।

डीसीपी (वेस्ट) गौरव यादव ने बताया कि 27 जुलाई को कमला नेहरू नगर निवासी अश्विनी पुरोहित ने सरदारपुरा थाने में रिपोर्ट दी थी। इसमें बताया गया कि सरदारपुरा तीसरी ए रोड पर उनकी ज्वैलरी शॉप है। 25 जुलाई की दोपहर करीब 1 बजे उनके शोरूम के मोबाइल पर विदेशी नंबर से वॉइस कॉल आई और उसने पांच लाख रुपए देने के लिए धमकी दी। अज्ञात बदमाश ने रुपए नहीं देने पर शोरूम पर गोलियां चलने की धमकी दी। इसके बाद स्टाफ ने मोबाइल देखा, तो पता चला कि एक दिन पहले भी देर रात 3 बजे उसी विदेशी नंबर से मैसेज आया हुआ था। तब पुरोहित ने सरदारपुरा पुलिस को इस संबंध में रिपोर्ट दी।

शहर के व्यापारी से रंगदारी मांगे जाने के केस को गंभीरता से लेते हुए एडीसीपी (वेस्ट) चंचल मिश्रा के निकट सुपरविजन में एसीपी (वेस्ट) नूर मोहम्मद के निर्देशन में विशेष टीम का गठन किया गया। इसमें सरदारपुरा थानाधिकारी जब्बरसिंह, एसआई लक्ष्मी, एएसआई बाबूराम के साथ कैलाश राजपुरोहित व अविनाश को शामिल किय गया।

विदेशी नंबर भी नहीं बचा पाए पुलिस से

एडीसीपी चंचल मिश्रा ने बताया कि अज्ञात व्यक्ति द्वारा व्यापारी को धमकाने के मामले में शातिर ने पुलिस से बचने के लिए विदेशी नंबरों का इस्तेमाल किया था। इतना ही नहीं, पुलिस को गुमराह करने के लिए और व्यापारी को डराने के लिए उसने गैंगस्टर लॉरेंस की डीपी लगा रखी थी। इसके बावजूद पुलिस टीम ने पड़ताल शुरू की, तो पुलिस के साइबर एक्सपर्ट प्रेम चौधरी की अगुवाई में साइबर एक्सपर्ट्स ने विदेशी नंबरों की हकीकत पता कर ली। पुख्ता साक्ष्य जुटाने के बाद बदमाश के बाड़मेर में होने के संकेत मिले, तो एक टीम बाड़मेर भेजी गई। वहां से एक युवक को पकड़ लिया गया, लेकिन छानबीन में उसके नाबालिग होने की जानकारी सामने आई, तो उसे संरक्षण में लेकर पूछताछ की। इसमें उसने व्यापारी पुरोहित को धमकी देना स्वीकार किया। साथ ही उसके मोबाइल से भी इसी तर्ज पर 8-10 अन्य लोगों को धमकी देने के साक्ष्य मिले। गहनता से पूछताछ के बाद पुलिस ने उसे बाल सुधार गृह भेज दिया।

पुलिस की यह टीम होगी पुरस्कृत

साइबर क्राइम से जुड़े इस केस की इन्वेस्टिगेशन में शामिल एसआई लक्ष्मी, एएसआई बाबूराम, विशेष भूमिका निभाने वाले साइबर एक्सपर्ट हैड कांस्टेबल प्रेम चौधरी, कांस्टेबल कैलाश राजपुरोहित और अविनाश को पुरस्कृत किय जाएगा।

#Gangster Lawrence’s photo became WhatsApp DP, demanded extortion of 5 lakhs from businessman, Jodhpur police arrested from Barmer

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!