25.7 C
Jodhpur

#MURDER चेराई रामनगर में एक ही परिवार के चार लोगों की गला रेत हत्या, निकट रिश्तेदार संदेह के घेरे में!

6 माह की मासूम, उसकी मां, दादी और दादा को बेरहमी से मारा, दो खाट पर मिले खून के निशान मृतक का उसके भाई भैराराम व मेहराराम के बीच जमीन को लेकर है विवाद, पुलिस भाई व भतीजे से कर रही पूछताछ

spot_img

Published:

जोधपुर/ओसियां/चेराई।

ग्रामीण पुलिस के ओसियां थाना क्षेत्र के गांव चेराई रामनगर में रहने वाले एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या से सनसनी फैल गई। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार ओसियां थानांतर्गत रामनगर ग्राम पंचायत की गंगाणियों की ढाणी में रहने वाले एक परिवार के एक पुरूषख् दो महिलाओं के साथ छह माह की मासूम बच्ची की गला काटकर हत्या कर दी गई। इसके बाद बाद झोंपड़ें में आग लगा दी गई। बुधवार अलसुबह हुई इस वारदात जानकारी ओसियां पुलिस को मिली, जो आला अफसर भी मौके पर पहुंचे। प्रारंभिक जांच के बाद पुलिस ने इस मामले में किसी परिचित का हाथ होने की आशंका से भी इनकार नहीं किया है। पुलिस अधीक्षक जोधपुर ग्रामीण धर्मेंद्रसिंह यादव का कहना है कि प्रथमदृष्टया लूट के इरादे से हत्या के अलामात नजर नहीं आ रहे हैं। इस संगीन वारदात की जांच के लिए हर पहलू पर बारीकी से पड़ताल की जा रही है। इसके लिए पुलिस की अलग-अलग टीमें गठित की गई है। उम्मीद है कि जल्द ही इस जघन्य हत्याकांड का खुलासा कर दिया जाएगा।

आपसी रंजिश या किसी जानकार का हाथ…?

पुलिस सूत्रों के अनुसार पूनाराम बैरड़ का बेटा रात को करीब 9 बजे ही घर से खाना खाकर पर स्टोन कटर पर काम करने गया हुआ था। इसलिए वो बच गया। जबकि, उसका एक भाई चामू में रहकर काम करता है। लोगों में इसी घटनाक्रम को लेकर अलग-अलग चर्चाएं हो रही है कि चारों तरफ दूसरी ढाणियों से घिरी पूनाराम की इस ढाणी तक पहुंचकर सामूहिक हत्या करने में किसी परिचित का हाथ हो सकता है। इसका कारण ये भी बताया जा रहा है कि यहां आसपास किसी वाहन के निशान भी नहीं मिले हैं। लूट के इरादे से हत्या किए जाने की आशंका भी कम ही प्रतीत हो रही है, क्योंकि गला रेत कर हत्या के बाद आग लगाई गई है। संभवतया किसी रंजिश के चलते इस घटना को अंजाम दिया गया होगा। हालांकि, ग्रामीण पुलिस की गई टीमें इस प्रकरण की पड़ताल में जुटी हुई है।

दो चारपाई पर खून के निशान, अलसुबह से जुटी सैंकड़ों की भीड़

जघन्य तरीके से हुई हत्या की खबर बुधवार अलसुबह जैसे ही फैली, मौके पर सैकड़ों लोगों की भीड़ लग गई। एक मासूम बच्ची, दो महिलाओं और एक पुरुष की जिस तरीके से हत्या की गई थी, उससे हर कोई स्तब्ध था। इनमें परिवार के मुखिया पूनाराम बैरड़ (55), उनकी पत्नी भंवरीदेवी (50), पुत्रवधु धापू (24) और 6 माह की पौती मनीषा के शव मिले हैं। मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर हिमांशु गुप्ता, पुलिस अधीक्षक धर्मेंद्रसिंह यादव सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। एफएसएल, डॉग स्क्वायड के साथ डीएसटी भी जांच में जुटी है।

लगातार अपडेट के लिए देखते रहिए… नारद ऑनलाइन

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!