25.7 C
Jodhpur

अहंकार ही मनुष्य के पतन का होता है कारण- डॉ. रामप्रसाद महाराज

spot_img

Published:

  • सदगुरु भोलाराम महाराज का 88 वां बरसी महोत्सव 5 को

भोपालगढ़। रतकूड़िया गांव स्थित लोकसंत सदगुरु भोलाराम महाराज की जीवित समाधि स्थल देवरीधाम की तलहटी में भूरिया बाबा तीखी देवरी के भोलाराम महाराज रूपरजत गौशाला के सोलहवें स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में महंत रमैयादास महाराज के सानिध्य में चल रही गौसेवार्थ श्रीमद भागवत कथा महोत्सव व गौभक्त सम्मेलन में सोमवार को श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। वहीं 5 अप्रैल को लोकसंत सदगुरु भोलाराम महाराज के 88 वें बरसी महोत्सव पर विशाल सत्संग कार्यक्रम, संत समागम, गौभक्त सम्मेलन व महाप्रसादी का आयोजन किया जाएगा ।जिसमें कई पीठों के पीठाधीश्वर आचार्य, महंत व संत महापुरुषों के अलावा श्रद्धालु भाग लेंगे।देवरीधाम उत्तराधिकारी युवाचार्य संत रामदास शास्त्री ने बताया कि गौसेवार्थ श्रीमद भागवत कथा महोत्सव के छठे दिन कथाव्यास बड़ा रामद्वारा सूरसागर महंत परमहंस डॉ. रामप्रसाद महाराज ने श्रद्धालुओं को प्रवचन देते हुए कहा कि संसार में मनुष्य को सदा अच्छे कर्म करना चाहिए तभी उसका कल्याण संभव है। माता-पिता के संस्कार ही संतान में जाते हैं। संस्कार ही मनुष्य को महानता की ओर ले जाते हैं। श्रेष्ठ कर्म से ही मोक्ष की प्राप्ति संभव है। अहंकार मनुष्य में ईष्या पैदा कर अंधकार की ओर ले जाता है। अहंकार ही मनुष्य के पतन का कारण होता है।देवरीधाम महंत रमैयादास महाराज व उत्तराधिकारी युवाचार्य रामदास शास्त्री ने सभी श्रद्धालुओं को गौसेवा करने के लिए प्रेरित किया गया है।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!