33.1 C
Jodhpur

बेमौसम बरसी आफत: पहले ही खराबे से जूझ रहे किसानों की अब सिंचित खरीफ फसलें भी हुईं नष्ट

spot_img

Published:

– कुछ दिनों पहले तक सावणू फसलें आई थी बेमौसम बारिश की चपेट में, अब मूंगफली को सर्वाधिक नुकसान

– अकेले जोधपुर जिले में ही 1.80 लाख हैक्टेयर में मूंगफली बुवाई के बाद अब चल रही खुदाई

तिंवरी। जिले में एक बार फिर किसानों पर आपदा का कहर बरसा है। खरीफ सीजन में किसान लगातार दिक्कतो का सामना करते आ रहे है। पहले लंबे समय तक बरसात नही होने से सूखे की स्थिति बनी, फिर झोला चलने से फसलों में नुकसान पहुंचा। मूंग, मोठ व बाजरा की कटाई के समय बरसात होने से उन फसलों में नुकसान हुआ था। अब फिर मुंगफली की खुदाई का समय आते ही फिर बैमौसम बरसात ने किसानों पर आफत बरसाई है। जिले में 1 लाख 80 हजार हैक्टेयर में मुंगफली की फसल है। जिसमे अधिकतर फसल की खुदाई करके मुंगफली को सूखने हेतु खेत में छोड़ा हुआ है। मुंगफली की फसल में पत्ती निकालकर उसके छोटे छोटे बंडल में इकट्ठा किया जाता है फिर उन्हे कुछ दिन सूखने हेतु छोड़ा जाता है। सूखने पर मुंगफली को इकट्ठा करने के बाद जमीन में बची हुई 25 से 30 प्रतिशत मुंगफली की छनाई की जाती है। इस बैमोसम बरसात से खोद कर छोड़ी हुई मुंगफली भीगने से काली पड़ने से से गुणवत्ता में नुकसान होगा वही मुंगफली का चारा खराब हो जायेगा। वही जमीन में बची हुई मुंगफली जमीन गीली रहने से सड़ कर नष्ट हो जाएगी जिससे किसानो को मुंगफली में 35 से 40 प्रतिशत नुकसान हो जायेगा। भारतीय किसान संघ की ओर से जहां बरसात हुई है और फसलों में नुकसान हुआ है वहा व्यक्तिगत फसल बीमा क्लेम दर्ज करवाने की अपील की है।

बालेसर कस्बे में भी बारिश से बढ़ी किसानों की चिंता। कमोबेश ऐसे ही हालात पूरे जिले के बताए जा रहे हैं।

फसल बीमा क्लेम के लिए ये करें –

कटी फसलों में नुकसान का 72 घंटे में व्यक्तिगत क्लेम करवाने का प्रावधान है। किसान क्लेम दर्ज करवाने हेतु बीमा कम्पनी के टोल फ्री नंबर 18004196116 पर फोन करके बीमा क्लेम दर्ज करवा सकेंगे। वही निर्धारित प्रारूप में किसान स्वयं, जमीन और नुकसान की जानकारी भरकर ro.jaipur@aicofindia.com पर ईमेल भेजकर भी क्लेम दर्ज करवा सकते है। उक्त प्रारूप को बीमा कम्पनी या कृषि पर्यवेक्षक या अधिकारी को व्यक्तिगत भी दे सकते है। इसी प्रकार मोबाइल में एनरोइड एप्लिकेशन Crop insurance डाउनलोड कर इस एप्प के जरिए भी बीमा क्लेम दर्ज करवा सकते है।

दोहरी मार: जरुरत थी तब हुई नहीं, अब पहुंचा रही नुकसान: सिंवर

किसानों पर इस सीजन में आपदा की लगातार मार पड़ी है। फसल पकते समय बरसात का अभाव और बिजली कटौती के बाद पहले मूंग, मोठ की कटी हुई फसलों पर तथा अभी मुंगफली की कटी हुई फसलों पर बैमोसम बरसात से नुकसान हुआ है। इस समय मुंगफली की खुदाई करके फसलों खेतो में पड़ी है जिससे चारा और मुंगफली खाली पड़ने से नुकसान होगा ही वही जमीन में नमी रहने से चुगाई की मूंगफली सड़ कर खराब हो जायेगी। किसान बीमा क्लेम दर्ज करवाएं। प्रशासन पिछली चार पांच सीजन की तरह किसानों को अपने हाल पर छोड़ने के बजाय बीमा कंपनियों से बीमा क्लेम और आपदा अनुदान राशि दिलवाने में गंभीरता बरते।

– तुलछाराम सिंवर, प्रदेश मंत्री, भारतीय किसान संघ

#Disaster due to unseasonal rains: Now the irrigated Kharif crops of the farmers who were already struggling with the losses were also destroyed.

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!