हिस्ट्रीशीटर का नहीं उठाया शव, शक के घेरे में एनकाउंटर


हिस्ट्रीशीटर लवली कंडारा एनकाउंटर की सीबीआई जांच की मांग, मोर्चरी के बाहर धरना देकर बैठे समाज के लोग


जोधपुर शहर में बुधवार शाम हुए एक एनकाउंटर में मारे गए हिस्ट्रीशीटर लवली कंडारा के शव को परिजनों ने उठाने से मना कर दिया है। परिजन पूरे मामले की जांच सीबीआई किसी न्यायिक अधिकारी से कराने, दोषी पुलिस अधिकारी व जवानों की बर्खास्तगी, हत्या का मामला दर्ज करने और परिजनों को मुआवजा व एक परिजन को सरकारी नौकरी देने की मांग पर अड़े हुए है। वहीं इस एनकाउंटर के विरोध में शहर के सफाईकर्मियों ने झाड़ू डाउन हड़ताल कर दी है। बड़ी संख्या में लोग मोर्चरी के बाहर एकत्र हो गए है। वे अपनी मांगों को लेकर धरना देकर बैठ गए है। अस्पताल परिसर में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। पुलिस कमिश्नर स्वयं जोस मोहन पूरे मामले की निगरानी कर रहे है।


शहर में बुधवार शाम सनसनीखेज घटनाक्रम में पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर लवली कंडारा को जवाबी फायरिंग में मार गिराया ािा। रातानाडा पुलिस को निजी कार में आते देख पांच बत्ती चौराहा से हिस्ट्रीशीटर लवली कंडारा साथियों संग एसयूवी में भागा। पुलिस ने पीछा किया तो बदमाशों ने सरे बाजार फायरिंग की। पुलिस पीछा करती रही। बदमाशों की एसयूवी सारण नगर पुलिया के पास पानी टंकी के नजदीक पहुंची तो पुलिस ने जवाब में 8 राउंड फायर किए। इसमें हिस्ट्रीशीटर लवली कंडारा घायल हुआ। पुलिस ने चार लोगों को हिरासत में लिया। बाद में अस्पताल में लवली की मौत हो गई। उसकी मौत के बाद से ही यह मामला राजनीतिक रूप लेना शुरू हो गया था। लवली के परिजनों की तरफ से उसकी बहन के ससुर व सफाई आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष चंद्रप्रकाश टायसन ने मोर्चा संभाल रखा है। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के करीबी माने जाने वाले टायसन ने कल शाम से ही अपने समाज के लोगों को लामबंद करना शुरू कर दिया था। ऐसे में यह स्पष्ट हो गया था कि यह मामला आसानी से शांत नहीं होगा। ऐसे में मोर्चरी के बाहर बड़ी संख्या में पुलिस बल के साथ ही आला अधिकारी मोर्चा संभाले हुए है। पुलिस कमिश्नर स्वयं प्रयास कर रहे है कि मामला शांतिपूर्वक निपट जाए। ऐसे में कुछ पुलिस अधिकारियों को परिजनों के साथ वार्ता कर उन्हें राजी करने का प्रयास किया जा रहा है। मृतक के परिजनों ने पुलिस पर फर्जी एनकाउंटर का आरोप लगा शव उठाने से इनकार कर दिया है। उन्होंने गोली चलाने वाले पुलिसकर्मियों के बर्खास्तगी की मांग भी रखी है। मामले की जांच सीबीआई एवं न्यायिक अधिकारी से करवाने की मांग भी उठने लगी है। शहर के करीब साढ़े चार हजार सफाई कर्मियों ने आज झाडू डाउन हड़ताल कर दी। इस कारण शहर की सफाई व्यवस्था गड़बड़ा गई। फिलहाल अस्पताल परिसर में लोगों के जुटने का क्रम शुरू हो चुका है।

पुलिस की तरफ से मामला दर्ज

इधर हिस्ट्रीशिटर का एनकाउंटर करने वाले रातानाडा थानाधिकारी लीलाराम की ओर से एक मुकदमा रातानाडा थाने में दर्ज कराया है। इसमें अनिल, लवली कंडारा उर्फ नवीन, संजयसिंह, आशीष और अजय के खिलाफ पुलिस जाब्ता पर जान से मारने की नीयम से पिस्टल से फायरिंग करना, पुलिस की जायज सरकारी ड्यूटी में बाधा पहुंचाने और अवैध रूप से हथियारों का उपयोग करने के साथ लापरवाही से वाहन चलाकर आमजन का जीवन संकट में डालने की धारा में मुकदमा दर्ज किया गया है।


लवली की गाड़ी में 4 नहीं 6 लोग थे, युवक ने जारी किया वीडियो

हिस्ट्रीशीटर लवली कंडारा के एनकाउंटर की गुत्थी उलझती जा रही है। पुलिस जहां अपनी तफ्तीश में कह रही है कि एनकाउंटर के दौरान लवली के साथ 4 अन्य लोग थे वहीं कथित तौर पर उस गाड़ी में सवार युवक ने कुछ और ही कहानी बयां की है। उसने कहा है कि गाड़ी में 6 लोग थे। उस युवक ने वीडियो जारी कर अपनी बात रखी है।
राहुल मीणा नाम के युवक ने कहा है कि हमें लगा कि हमारे पीछे बदमाश चल रहे हैं लेकिन बनाड़ से आगे सामने गाड़ी आने के बाद थानाधिकारी लीलाराम अपनी गाड़ी से उतर कर आए और उन्होंने लवली पर गोलियां दागनी शुरू कर दी। इस दौरान अफरा-तफरी मच गई। हमारे साथ हाथापाई भी हुई। हम दो वहां से भागने में कामयाब हो गए। इस वीडियो के सामने आने के बाद पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठने लगे हैं। इस वीडियो को लेकर किसी अधिकारी ने अभी कोई टिप्पणी नही की है।

NEWS

Related articles

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here