बड़ी ख़बर

शरद पूर्णिमा पर चन्द्रमा की चांदनी से बरसा अमृत

आश्विन शुक्ल पूर्णिमा आज शरद पूर्णिमा के रूप में मनाई गई। इस दौरान रात्रि में खीर बनाकर चंद्रमा के प्रकाश में रखकर अर्धरात्रि में भोग लगाया गया।

केंद्र सरकार हर मोर्चे पर पूरी तरह विफल: सचिन पायलट

प्रदेश के पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि केन्द्र सरकार हर मोर्चे पर पूरी तरह से विफल साबित हो रही है। सरकार के पास सिर्फ बातें और भाषण है।

देशभर से मंत्री व नेता आए श्रद्धांजलि देने, केन्द्रीय मंत्री शेखावत से मिलकर जताई संवेदना

भारत और राजस्थान सरकार के अनेक मंत्री भाजपा एवं कांग्रेस नेता मंगलवार को जोधपुर पहुंचे और केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत के निवास स्थान पर माता मोहन कंवर के निधन पर संवेदना प्रकट की। साथ ही मंत्री शेखावत के पिता शंकर सिंह शेखावत से मिलकर शोक जताया। भाजपा के संभाग मीडिया प्रमुख अचलसिंह मेड़तिया ने बताया कि केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत की माता के निधन पर चल रही शोक सभा में राजस्थान एवं देश के अनेक राज्यों से गणमान्य नागरिक, नेता एवं मंत्री जोधपुर आ रहे हैं। भाजपा उत्तर प्रदेश के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं भारत सरकार के केन्द्रीय भारी उद्योग मंत्री महेन्द्रनाथ पाण्डे, केन्द्रीय पर्यटन एवं जलशक्ति राज्यमंत्री प्रहलाद पटेल, अलवर के सांसद महंत बालकनाथ एवं पूर्व केबिनेट मंत्री व बिहार के भाजपा नेता राजीव प्रताप रूडी सहित अनेक भाजपा नेता दिल्ली से एक साथ जोधपुर पहुंचे और केन्द्रीय मंत्री शेखावत की माताजी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की।

एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय, फिर होगी बारिश

जस्थान में दो दिन झमाझम के बाद फिर से एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है, जिसके चलते 23 और 24 अक्टूबर को जोधपुर सहित पांच जिलों में बारिश होगी।

बेरोजगारों पर डबल अटैक कर रही है गहलोत सरकार: अरूण सिंह

रविवार को जोधपुर दौरे के दौरान गहलोत सरकार पर जमकर निशाना साधा।

पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा का निधन, कैंसर रोग से पीडि़त थे

वे लंबे समय से कैंसर से पीडि़त थे। उनका जोधपुर एम्स में इलाज चल रहा था। एक साल पहले मदेरणा को हाईकोर्ट ने इलाज कराने के लिए पैरोल दी थी। मदेरणा को फोर्थ स्टेज का कैंसर था।मदेरणा के निधन की सूचना मिलने के साथ ही भोपालगढ़ व ओसियां के अलावा समूचे जोधपुर जिले सहित मारवाड़ में उनके समर्थकों में शोक की लहर सी दौड़ गई।

रावण की बारात में आए थे, फिर यहीं बस गए, रावण दहन पर मनाते हैं शोक

मान्यता है कि जब रावण विवाह करने जोधपुर के मंडोर आए थे तब यह ब्राह्मण उनके साथ बारात में आए थे। विवाह करके रावण वापस लंका चला गया, लेकिन यह लोग यहीं रह गए। तब गोधा गोत्र के श्रीमाली ब्राह्मण यहां रावण की विशेष पूजा करते आ रहे हैं। ये रावण का दहन नहीं देखते, बल्कि उस दिन शोक मनाते हैं।

रेलवे अधिकारी पर महिला सहकर्मी से सेक्सुअल एक्सटॉर्शन का आरोप, आरोपी मैनेजर को छुट्टी पर भेजा

जोधपुर के मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय में यौन उत्पीडऩ का मामला सामने आया है। जोधपुर में कार्यरत रेलवे के एक आला अधिकारी पर...

आग का गोला बनी कार

जोधपुर रेलवे स्टेशन के समीप एक होटल के बाहर खड़ी कार गुरुवार तड़के धधक उठी। कार में लपटें उठती देख किसी ने फायर ब्रिगेड...

NEWS