महिला विधायक का वीडियो वायरल होने पर विवाद, डीसीपी ने एसीपी ईस्ट को जांच सौंपी


जोधपुर कमिश्नरेट के रातानाडा थाना में शेरगढ़ विधायक मीना कंवर के हंगामे वाले वीडियो के वायरल होने की जांच की जाएगी। इसके लिए डीसीपी पूर्व भुवन भूषण यादव ने एसीपी ईस्ट को जांच सौंपी है। दरअसल यह जांच इसलिए की जा रही है कि इस मामले का निपटारा डीसीपी पूर्व भुवन भूषण यादव ने किया था और महिला विधायक को आश्वस्त किया था कि उन्होंने वीडियो को डिलीट करवा दिया है। इसके बाद भी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।


बता दे कि रविवार देर रात 10.30 बजे एयर फोर्स इलाके में पुलिस की गश्ती दल ने दो लोगों को पकड़ा और एमवीआई एक्ट के तहत उनका चालान बना दिया। चालान बनाने के बाद गाड़ी को सीज किया गया। इसके के बाद युवक ने अपने रिश्तेदार शेरगढ़ विधायक मीना कंवर के पति उम्मेद सिंह राठौड़ को फोन लगाया। उम्मेद सिंह की पुलिस से बात करवा डाली। कानून के दायरे में बंधे पुलिस के जवान ने उन्हें कहा कि उन्होंने चालान बना दिया है और अब गाड़ी सीज हो चुकी है। वह गाड़ी छोडऩे में असमर्थ है। इसके बाद उम्मेद सिंह अपनी विधायक पत्नी मीना कंवर के साथ थाने पहुंच गए। थाने में करीब एक घंटे तक हंगामा चला। जब बात बनती नहीं दिखी तो विधायक और पति जमीन पर बैठ गए। अपनी जिद पर अड़ गए। कभी डीसीपी तो कभी आलाकमान को फोन करने लगे। जयपुर से एक बड़े अधिकारी को बार-बार फोन किया गया। आखिरकार डीसीपी के हस्तक्षेप के बाद मामला तो शांत हो गया। इतना ही नहीं विधायक के सामने कुर्सी पर बैठे पुलिसकर्मी को भी उनके पति ने धमकाते हुए बोले कि विधायक नीचे बैठी हैं और तुम कुर्सी पर। यहां तक कि एसएचओ लीलाराम वाले मामले का हवाला देते हुए भी धमकाने लगाने। थाने में चले विधायक और पति के ड्रामे का वीडियो वहां मौजूद किसी पुलिसकर्मी ने बना लिया। आला अधिकारी ने वीडियो बनाने वाले कांस्टेबल को वीडियो तुरंत डिलीट करने का आदेश दे डाला। वहीं पूरे थाने को भी कह दिया कि वह इस बारे में किसी को नहीं बताएं, लेकिन घटना का वीडियो सोमवार देर रात सामने आ गया।

NEWS

Related articles

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here