वासुदेव हत्याकांड का एक आरोपी गिरफ्तार, शूटर की तलाश

0
674
लॉरेंस गैंग के गुर्गों का स्थानीय सहयोगी भी दिल्ली एयरपोर्ट पर गिरफ्तार, नेपाल भागने की फिराक में था

जोधपुर। व्यापारी वासुदेव इसरानी उर्फ वासु सिंधी हत्याकांड के ग्यारहवें दिन महानगर पुलिस को सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने हत्या के एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। यह गोली चलाने वाले शूटर की बाइक चला रहा था। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त बाइक भी जब्त की है। वहीं शूटर की भी पहचान कर ली गई है। उसकी सरगर्मी से तलाश की जा रही है। वहीं पुलिस ने पंजाब-हरियाणा के कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस विश्नोई के गुर्गों के स्थानीय सहयोगी हिस्ट्रीशीटर पवन सोलंकी को दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट पर पकड़ा है। वह पश्चिम बंगाल और फिर उसके बाद नेपाल भागने की फिराक में था। वह मण्डोर थाने का हिस्ट्रीशीटर है और उसके खिलाफ अलग-अलग थानों में कई मामले दर्ज है।

Also Read: प्रशंसक की हरकत पर भड़के फिल्म स्टार अर्जुन कपूर

पुलिस आयुक्त अशोक कुमार राठौड़ ने पत्रकारों को बताया कि सरदारपुरा सी रोड स्थित पदमराज डिपार्टमेंटल स्टोर के संचालक वासुदेव इसरानी की गत सत्रह सितंबर की रात को रंगदारी वसलूने की नीयत से गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस हत्या की प्रारंभिक जांच में सामने आया था पंजाब-हरियाणा के कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस विश्नोई ने रंगदारी वसूलने की नीयत से यह हत्या करवाई थी। हालांकि अभी तक यह पुख्ता नहीं हो सका है। उन्होंने बताया कि हत्या की गहन जांच के बाद नई सड़क हनुमान भाखरी निवासी विनोद ऊर्फ विक्की प्रजापत को गिरफ्तार किया गया है। उसके साथ भीमसागर लोहावट निवासी भोमाराम नामक युवक भी था। उसकी तलाश की जा रही है। वह विनोद प्रजापत के साथ बाइक के पीछे बैठा था और उसी ने वासुदेव पर गोली चलाई थी। इसके बाद वह दोनों बाइक पर फरार हो गए थे। पुलिस ने विनोद प्रजापत की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बाइक को जब्त कर लिया है।

Also Read: जोधपुर – बाडमेर रोड पर धवा-डोली के टोल नाके पर फायरिंग

इधर व्यापारी वासुदेव इसरानी की हत्या की जांच के बाद यह सामने आया था कि महामंदिर निवासी पवन सोलंकी भी लॉरेंस गैंग से जुड़ा हुआ है। वह मंडोर पुलिस थाने का हिस्ट्रीशीटर है। उसके खिलाफ अवैध वसूली और धमकी देने सहित अलग-अलग धाराओं में करीब नौ मामले दर्ज है। पुलिस आयुक्त ने बताया कि वह कई संगीन वारदातों में शरीक रह चुका है। सेन्ट्रल जेल में लॉरेंंस विश्नोई से मुलाकात के बाद वह इस गिरोह मेें अपराधी गतिविधियों में शामिल हो गया। वह लॉरेंस के गुर्गों को सहायता उपलब्ध करवाता है। हालांकि उसकी वासुदेव हत्याकांड में भूमिका सामने नहीं आई है लेकिन उसे लॉरेंस का सहयोग करने पर पकड़ा गया है। वह आज सुबह नई दिल्ली से बागडोगरा (पश्चिम बंगाल) और उसके बाद नेपाल भागने की फिराक में था। इसी दौरान उसे पकड़ लिया गया। उसे सड़क मार्ग से कड़ी सुरक्षा के बीच जोधपुर लाया जा रहा है। उसको लेकर देर रात तक जोधपुर पहुंचने की संभावना है।

Also Read: सलमान खान को मिली राहत कोर्ट को गुमराह करने की शिकायत का प्रार्थना पत्र खारिज

पुलिस खुद असमंजस की स्थिति

वासुदेव हत्याकांड को लेकर महानगर पुलिस खुद असमंजस की स्थिति में है। पुलिस आयुक्त अशोक कुमार राठौड़ ने प्रेस वार्ता के दौरान यह स्वीकार किया कि इस मामले का अभी तक पूरी तरह से खुलासा नहीं हुआ है। उन्होंने बताया कि इस वारदात में करीब आधा दर्जन लोग शामिल है जिनकी पहचान कर जांच की जा रही है। मामला लेनदेन और अवैध वसूली से जुड़ा हुआ है। लॉरेंस के गुर्गे हरेंद्र उर्फ हीरा जाट और काली राजपूत उर्फ शूटर साब के बारे में भी पुलिस स्पष्ट नहीं है। पुलिस आयुक्त के अनुसार गोली भोमाराम ने चलाई थी ना कि काली और हरेंद्र ने। हालांकि उनको जांच में रखा गया है। वहीं लॉरेंस की भूमिका को भी जांच में रखा गया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here