27.1 C
Jodhpur

बिश्नोई समाज ने भरी हुंकार, केंद्रीय ओबीसी में आरक्षण का मांगा अधिकार

spot_img

Published:

– पाली के रोहट सहित पश्चिमी राजस्थान के सभी इलाकों से जोधपुर पहुंचे बिश्नोई समाज के लोग

– केंद्र को दी चेतावनी, रेल पटरियों पर आना पड़ा, तो वो भी करेंगे

नारद रोहट। बिश्नोई समाज ने केन्द्र में ओबीसी आरक्षण को लेकर भरी हुंकार, रोहट क्षेत्र से बड़ी संख्या जोधपुर पहुंचे बिश्नोई समाजबंधु, केन्द्र में ओबीसी आरक्षण के लिए रेल की पटरियों पर आना पड़ा तो भी आयेंगे- विक्रमसिंह, उप जिला प्रमुख रोहट रविवार को केन्द्र में ओबीसी आरक्षण को लेकर बिश्नोई समाज ने हुंकार भरने के साथ बड़े स्तर पर आन्दोलन को लेकर रणनीति के लिए बेटी संस्थान में बिश्नोई समाज केन्द्रीय ओबीसी आरक्षण संघर्ष समिति जोधपुर के तत्वावधान में बैठक का आयोजन किया। बैठक में रोहट क्षेत्र से भी बड़ी संख्या में समाजबंधु जोधपुर पहुंचे साथ ही प्रदेशभर से बिश्नोई बाहुल्य जिले जोधपुर, बीकानेर, जालोर, पाली, बाड़मेर, बीकानेर, नागौर, गंगानगर, जैसलमेर, फलोदी सहित विभिन्न जिलों से सैंकड़ों समाजबंधुओं ने शिरकत की। इस दौरान संघर्ष समिति के अध्यक्ष व जोधपुर उप जिला प्रमुख विक्रमसिंह कहा कि अगर केन्द्र की सरकार बिश्नोई समाज को केन्द्रीय ओ.बी.सी वर्ग में शामिल करती हैं तो स्वागत हैं अन्यथा हम आगामी दिनों दिल्ली या बड़े स्तर पर प्रदर्शन करेंगे जिसका परिणाम आगामी चुनाव पर पडेगा। अध्यक्ष ने कहा कि आरक्षण के लिए यदि पटरी तक जाने की जरूरत पड़ी तो पटरी तक भी जायेंगे। इन्होंने कहा कि राजस्थान में 35 विधानसभा व 7 लोकसभा क्षेत्र में समाज के लोगों की अनदेखी किसी भी दृष्टि से सही नहीं है।

जोधपुर में बिश्नोई समाज की बैठक में हजारों की संख्या में समाज के लोगों ने हिस्सा लिया।

बिश्नोई समाज के कद्दावर नेता स्वर्गीय रामसिंह बिश्नोई के पुत्र व समिति के पदाधिकारी परसराम खोखर ने कहा कि आरक्षण के लिए बिना दलगत राजनीति से ऊपर उठकर समाज के लिए हर समय तत्पर रहूंगा। वर्ष दो हजार में सांत दिनों में आरक्षण मिल गया था वो समय अलग था अब समय अलग आ गया मोबाइल का युग आ गया है इससे काम नहीं चलेगा संघर्ष के लिए धरातल पर लड़ाई लड़ेंगे इन्होंने कहा की जरूरत पड़ी तो रावण के चबूतरे पर एक लाख आदमी समाज के इकट्ठा करेंगे। फिलहाल एक महिना तक गंगानगर से साचोर तक मीटिंग रखेंगे

राज्य स्तरीय, जिला स्तरीय, तहसील स्तरीय संघर्ष समिति का गठन करेंगे

संयोजक सहीराम सेवानिवृत्त एएसपी ने कहा कि हमारे समाज के पास कभी भी कोई हुकुमत नहीं रही सभी दूर दूर धोरों में ही रहते थे। यही कारण रहा कि आवाज 23 सालों में नहीं पहुंच पाई अब प्रजातंत्र में आन्दोलन करना है तो अनुशासित रहना होगा, संगठित व अनुशासित होकर धैर्य से आन्दोलन करना होगा। अधिवक्ता राधा विश्नोई ने कहा हमारे समाज के जो भी नेता हैं उनकी नैतिक जिम्मेदारी बनती है। एकता के साथ उठी मांगों पर विचार होता है पूरी होती है। अन्य वक्ताओं ने बताया कि समाज के वरिष्ठ लोग इस आरक्षण को लेकर विभिन्न स्तर तक प्रयासरत हैं उनका भी यह संघर्ष समिति आभार व्यक्त करती हैं।

बिश्नोई समाज की बैठक को समाज के प्रमुख गणमान्य नागरिकों ने किया संबोधित।

वर्ष 2000 में राजस्थान में मिला था आरक्षण

महासम्मेलन में युवा शक्ति व समाज के प्रबुद्धजन, संतगण, प्रशासनिक अधिकारी व जनप्रतिनिधियों ने भाग लिया। बैठक में बताया कि सन् 1999- 2000 रामसिंह बिश्नोई तत्कालीन केबिनेट मंत्री राजस्थान सरकार द्वारा राजस्थान राज्य में बिश्नोई जाति को ओबीसी में सम्मिलित करवाया गया था, तत्पश्चात् राजस्थान राज्य के बिश्नोई जाति के प्रतिनिधि द्वारा केन्द्र में ओबीसी आरक्षण हेतु NCBC को प्रतिवेदन दिया गया परन्तु उस समय केन्द्र की सरकार ने आरक्षण नही दिया तथा सन् 2021 के मार्च में राजस्थान सरकार ने केन्द्र में ओबीसी आरक्षण हेतु बिश्नोई जाति को शामिल करने हेतू केन्द्रिय पिछड़ा आयोग को अनुसंशा की। इस आधार पर वर्तमान में केन्द्र सरकार द्वारा दिये जाने वाले अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण में बिश्नोई जाति को सूचिबद्ध किया जायें। इस महासम्मलेन में बिश्नोई जाति ने भारत सरकार व केन्द्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग से मांग की हैं कि व हमें ओ.बी.सी वर्ग में शामिल करें। क्योंकि बिश्नोई जाति मूल रूप से जंगल, जमीन व वन्यजीव संरक्षण से जुडी जाति हैं इनका मुख्य व्यवसाय कृषि व पशुपालन हैं। सामाजिक व आर्थिक पिछड़ा वर्ग के कारण ये ओ.बी.सी में शामिल होने की सभी शर्ते पूरी करती हैं। इस कार्यक्रम का मंच संचालन पप्पूराम भादू व अशोक सिरमण्डी ने किया। इस सम्मेलन में श्रीमहत शिवदास जी, प्रेमदासजी, परसाराम खोखर, मोमराज डारा, सुरेन्द्र कुमार, सहीराम (Ret. Add. SP), सोहनराम, विकास खिलेरी लाखाणी ओमजी राव प्रधान, रामलाल डेयरी चैयरमेन, भल्लूराम  खिचड़, सुरजनराम सांचौर, रिटायर्ड कर्नल बीरबलराम, पप्पूराम डारा, ओ. पी. धायल, रविनेण, करनाराम खारा, जीवनराम जाम्बा, अभिषेक बांगडवा, रामनिवास बुधनगर, भवंरू खिचड़, बलदेवराम साऊ, मांगीलाल बुडीया, रामलाल खावा, सुशील ढाका, अविनाश खारा, रमेश जाणी, श्यामलाल सोहू, मोहन पंवार, विनोद बेरू, प्रकाश साहू निदेशक सृष्टि क्लासेज’ राकेश माचरा उप प्रधान, राधा बिश्नोई पूर्व सरपंच, बसंत भादू गुड़ामालानी राजवीर रावर, रणवीर भवाद, जगदीश अधिवक्ता, रोहट क्षेत्र से समाजसेवी कालूभाई विश्नोई, वागाराम विश्नोई, मोहनलाल विश्नोई, सुनील विश्नोई, रमेश, हरमन विश्नोई आदि लोग उपस्थित रहे।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!