16.9 C
Jodhpur

मारवाड़ के महाकुंभ का आगाज, ध्वज स्थापित, शुक्रवार से शुरू होगी भोगीशैल परिक्रमा

spot_img

Published:

जोधपुर | हिंदू सेवा मंडल की ओर से आयोजित मारवाड़ का महाकुंभ भोगीशैल परिक्रमा यात्रा की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। बुधवार को विधि-विधान से पूजन कर घंटाघर प्रांगण स्थित मंडल कार्यालय पर ध्वज स्थापित किया गया, वहीं गुरुवार को जागरूकता रैली निकाली जाएगी तथा शुक्रवार दोपहर को गाजे-बाजों के साथ घंटाघर प्रांगण से रवाना होगी।
भोगीशैल परिक्रमा यात्रा आयोजन समिति के सचिव विष्णुचंद्र प्रजापति ने बताया कि गत यात्रा के दौरान वैश्विक महामारी के चलते प्रतीकात्मक यात्रा निकाली गई थी, जिसमें सिर्फ मंडल पदाधिकारी ही शामिल हुए थी। आमजन के लिए छह वर्ष बाद सैनाचार्य स्वामी अचलानंद गिरि महाराज व सूरसागर रामद्वारा के महंत डॉ. रामप्रसाद महाराज के सान्निध्य तथा राजस्थान मेला प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रमेश बोराणा, राज्य मंत्री राजेंद्र सिंह सोलंकी, महापौर कुंती परिहार, जिला कलेक्टर हिमांशु गुप्ता के मार्गदर्शन 28 जुलाई से 3 अगस्त तक आयोजित हो रही इस परिक्रमा को लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह का माहौल है। बुधवार को स्वयंसेवकों को दिए जाने वाले टीशर्ट का विमोचन व दिशा-निर्देश संबंधी पेम्फ्लेट का विमोचन किया गया। इस मौके कोषाध्यक्ष राकेश गौड़, मुख्य मेला व्यवस्थापक मदन सैन, लिखमीचंद किशनानी, प्रेमराज खींवसरा, तुलसीदास वैष्णव, नरेंद्र गहलोत, दिनेश रामावत, हनवंतराज गाच्छा, महेंद्र सिंह तंवर, गौरीशंकर गांधी, ताराचंद शर्मा, महेश गहलोत, यतिंद्र प्रजापत आदि मौजूद थे।

यात्रा का मार्ग
संयोजक कैलाश जाजू ने बताया कि 28 जुलाई शुक्रवार दोपहर 3:15 बजे गाजे-बाजे के साथ परिक्रमा यात्रा रवाना होगी। यात्रा घंटाघर, तीजा माता मंदिर, घासमंडी, सोजती गेट, नई सड़क, पुलिस लाइन, भाटिया चौराहा, पहुचेगा, श्रद्धालु होटल इंडाणा होते हुए बिछड़िया गजानंद मंदिर पहुंचेगी। यहां पूजा-अर्चना के बाद यात्री पुन: भाटिया चौराहा पहुंचेंगे और रात्रि विश्राम यहीं पर करेंगे।
29 जुलाई को सुबह भाटिया चौराहा से रवाना होकर श्रद्धालु रिक्तिया भैरुजी, मसूरिया बाबा रामदेव मंदिर, पाल लिंक रोड, जूना खेड़ापति, सैन बगेची होते हुए चौपासनी स्थित श्याम मंदिर पहुंचेगी तथा रात्रि विश्राम चौपासनी गांव में ही होगा।
30 जुलाई को चौपासनी से रवाना होकर हथकरघा भवन, दंताल माता, श्रीजी बैठक, कच्छवाह चौराहा से होते हुए पहाड़ी मार्ग से गुजरेगी। तत्पश्चात अरना-झरना, भदरेसिया, कदमकंडी होते हुए बड़ली भैरुजी पहुंचेगी और रात्रि विश्राम करेगी।
31 जुलाई को सुबह यात्रा प्रारंभ होकर सोढ़ों की ढाणी, रूपावतों का बेरा, भूरी बेरी, वृहस्पति कुंड होते हुए बैद्यनाथ मंदिर पहुंच रात्रि विश्राम करेगी।
1 अगस्त को सुबह बैद्यनाथ से यात्रा प्रारंभ होगी, जो मंडलनाथ महादेव, कुंडली माता, बीएसएफ, जोगी तीर्थ, दईजर माता से पहाड़ी मार्ग होते हुए बेरी गंगा पहुंच रात्रि विश्राम वहीं करेगी।
2 अगस्त को सुबह यात्रा रवाना होकर निंबली, नींबा तीर्थ, रेलवे स्टेशन, बालाजी मंदिर होते हुए मंडोर उद्यान पहुंचेगी तथा दिनभर विश्राम करेगी।
3 अगस्त को सुबह परिक्रमा रवाना होकर संतोषी माता मंदिर, शीतला माता मंदिर, शेखावत बालाजी, उम्मेद भवन, रातानाड़ा गणेश मंदिर, पुलिस लाइन, सोजती गेट, कंदोई बाजार, कपड़ा बाजार, जूनी मंडी, गंगश्याम जी मंदिर तत्पश्चात पुन: घंटाघर स्थित मंडल कार्यालय पहुंच संपन्न होगी।

300 से ज्यादा स्वयंसेवक करेंगे सेवा
मुख्य मेला व्यवस्थापक मदन सैन ने बताया कि आयोजन समिति की ओर से विभिन्न व्यवस्थाओं के लिए 300 स्वयंसेवक 24 घंटे तैनात रहेंगे। जिसमें पीले टीशर्ट में 150, भगवा टीशर्ट में 75, सफेद टीशर्ट में 50 व खाकी वर्दी में 50 पुरुष व 35 महिला स्वयंसेवक सहित अनेक कार्यकर्ता निस्वार्थ भाव से सेवाएं देंगे।

टेबल कुर्सी पर बैठाकर करवाएंगे भोजन
कोषाध्यक्ष राकेश गौड़ ने बताया कि आयोजन समिति की ओर से श्रद्धालुओं की सेवार्थ टेंट, टेबल कुर्सी पर बैठाकर निशुल्क भोजन, सुबह व शाम को चाय नाश्ता, मोबाइल चार्जिंग, पेयजल के लिए पानी, नहाने-धोने के लिए पानी के टैंकर, वृद्ध यात्रियों के लिए मिनी बस की व्यवस्था, सभी पड़ाव स्थलों पर सत्संग व भजन संध्या, प्रतिदिन शाम को महा आरती, प्राथमिक उपचार, निशुल्क दवाइयां सहित अनेक प्रकार की व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

यात्रियों का सामान आवागमन के लिए टोकन व्यवस्था
यात्रियों का सामान एक पड़ाव से दूसरे स्थल तक पहुंचाने के लिए भी आयोजन समिति की ओर से श्वेत वस्त्र धारियों की एक टीम पड़ाव स्थल पर तैनात रहेगी। इसके लिए 25 हजार टोकन का सेट तैयार किया गया है। एक टोकन यात्री के पास तथा दूसरा सामान पर लगाया जाएगा। अगले पड़ाव स्थल पर टोकन का मिलान कर यात्री समान प्राप्त कर सकेंगे। इसके अतिरिक्त पैदल चलन में असमर्थ यात्रियों के लिए मिनी बसों की भी व्यवस्था की गई है।

उम्मेद भवन में राज परिवार करेगा श्रद्धालुओं का स्वागत

3 अगस्त को सुबह शेखासर जी तालाब होते हुए यात्री उम्मेद भवन पहुंचेंगे। वहां पर पूर्व नरेश गजसिंह, महारानी हेमलता राजे, युवराज शिवराज सिंह, युवरानी गायत्री परिवार, बाईजीलाल शिवरंजनी व राज परिवार के अन्य सदस्य श्रद्धालुओं का पुष्प वर्षा से स्वागत करेंगे। साथ ही ध्वज पूजन कर आयोजन समिति के पदाधिकारियों का स्वागत अभिनंदन करेंगे।

अपणायत का परिचय देते हुए शांति एवं सौहार्द से मनाएं : जिला कलेक्टर

जिला कलक्टर श्री हिमांशु गुप्ता ने आगामी दिनों में भौगीशैल परिक्रमा यात्रा, मुहर्रम एवं रक्षाबंधन के मद्देनज़र जोधपुरवासियों ने इन अवसरों को परस्पर शांति, सौहार्द एवं भाईचारे के साथ मनाने की अपील की है। जिला कलक्टर ने बुधवार को जारी अपील में कहा है कि दुनिया भर में मशहूर जोधपुर की अपणायत परम्परा का परिचय देते हुए पूर्ण शान्ति एवं भाईचारे के साथ इन्हें मनाएं। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था के बारे में अथवा किसी भी प्रकार की जानकारी मिलने पर पुलिस प्रशासन को तुरन्त अवगत कराएं ताकि शान्ति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखी जा सके।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!