32.4 C
Jodhpur

200 में 21 सीट पर क्यों आए, गहलोत ने दिया पायलट को जवाब

spot_img

Published:

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पिछले दो विधानसभा चुनाव हारने वजह बताई है। सीएम गहलोत ने जयपुर में मीडिया से बात करते हुए कहा कि पहले कर्मचारियों ने नाराजगी व्यक्त कर दी। चुनाव में हमें हरवा दिया। मुझे हड़ताल का सामना करना पड़ा। 60 दिन तक हड़ताल रखी। काम नहीं तो वेतन नहीं। हमारा बड़ा निर्णय था। कुछ हमारी भी गलती रही। कर्मचारियों से चर्चा नहीं कर पाए। मैं भी नया था। मुझे अनुभव नहीं था। इस बात का। कर्मचारी नाराज क्यों हो रहे हैं। उनकी गलती रही। मेरी गलती रही। फिर मोदी जी की हवा चल गई देश के अंदर। एक हवा चल पड़ी। उसका फायदा मोदी जी को मिल गया। 2013 में हम लोग 21 पर आ गए। काम करने के लिए हमने कोई कमी नहीं रखी। सीएम ने कहा कि 2018 में हमारी सरकार आई है। उसकी वजह यह है कि पुरानी कामों को लोगों ने याद किया। मैं दावे के साथ कह सकता हूं। सरकार जाते ही 6 महीने में याद करने लग जाते हैं। गलती हो गई। पहले वाली सरकार ही सही थी।  वो जो माहौल बनता है। वह भी बड़ा कारण होत है सरकार बनने का। इसलिए 2018 में पहले ही हवा बन गई थी कि सरकार आनी चाहिए। अशोक गहलोत मुख्यमंत्री बनना चाहिए। पब्लिक की आवाज थी। पब्लिक की आवाज खुदा की आवाज होती है।  बता दें, सचिन पायलट ने कहते रहे है कि हम सरकार रिपीट नहीं कर पाते। इसकी  जिम्मेदारी लेनी होगी। 2013 में हम 21 सीट पर आ गए थे। 

सीएम गहलोत ने कहा कि मेरी अंतरात्मा कर रही है कि इस बार हमारी सरकार आएगी। मैं सीएम बनूंगा। सीएम गहलोत ने कहा कि मैं कोई बात बोलता हूं। सोच समझकर बोलता हूं। दिल की बात जुबान पर आती है। मुझे गाॅड गिफ्ट है। तो मुझे लगता है। जनता इस बार साथ देगी। सीएम गहलोत ने कहा कि इस बार कर्मचारियों की नाराजगी नहीं है। मोदी जी की हवा नहीं है। सत्ता विरोधी माहौल नहीं है। मैं उम्मीद करता हूं। इस बार जनता हमारा साथ देगी। विपक्ष कमिया बताए। जनता को उनको स्वीकार करने वाली नहीं है। सीएम गहलोत ने कहा कि नड्डा जी आ रहे हैं, मोहन भागवत आए है। राजस्थान को देश के अंदर टारगेट बनाया जा रहा है। गहलोत ने कहा कि सरकार बचती नहीं तो मैं फैसले कैसे करता। 

मुझे उम्मीद है कि पार्टी में भी एकता रहेगी। सब लोग समझ जाएंगे। जनता का मूड क्या है। हम सब मिलकर मैदान में उतरेंगे। मिशन 156 लागू होगा। मुझे उम्मीद है। चार साल में सरकार विरोधी लहर नहीं है। मुख्यमंत्री को भला आदमी कहते हैं। कितना भला है। वह तो आप जानते हैं। भला आदमी मतलब कोरोना में ध्यान रखा। सुखदुख में ध्यान रखा। सेवा की राजनीति करता हूं। मेरा काम चल जाता है। सीएम ने कहा कि मैं राजनीति 24 घंटे ही करता हूं। सीएम ने कहा कि पागलपन से हम कोई नहीं करेंगे तो कामयाब नहीं हो सकेंगे। 

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!