31.9 C
Jodhpur

लंदन वाले बयान के हंगामे के बीच मुस्कुराते हुए सदन पहुंचे राहुल गांधी, बोले- मैं संसद में बोलूंगा

spot_img

Published:

संसद में जारी बजट सत्र के दूसरे चरण में तीन दिन की कार्यवाही हंगामे की भेंट चढ़ चुकी है, तो वहीं गुरुवार को विदेश दौरे से लौटे राहुल गांधी कार्यवाही में भाग लेने के लिए पहुंचे. हालांकि राहुल के सदन में पहुंचते ही हंगामें में तब्दील हो गई..जिसके बाद संसद को कल 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है.

सफेद टी-शर्ट में राहुल गांधी जब सदन पहुंचे तो पत्रकारों ने उनसे पूछा कि क्या वो माफी मांगेगे तब उन्होंने कहा, “मैंने भारत विरोधी कुछ भी नहीं बोला (लंदन सेमिनार में). अगर वे अनुमति देंगे तो मैं क्या सोचता हूं उसके बारे में संसद में बोलूंगा. ”

बता दें कि राहुल गांधी ने लोकसबा अध्यक्ष से भी मुलाकात की. कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने बताया कि कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने आज संसद में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मुलाकात की और उनसे अनुरोध किया कि उन्हें बीजेपी द्वारा लगाए गए आरोपों के बारे में बोलने के लिए समय दिया जाए.

सदन में राहुल गांधी के पहुंचने के दौरान पार्टी ने ऑफिशियल हैंडल पर उन्हें शेर बताया और ट्वीट किया, ‘शेर संसद में.’ वहीं अपने दूसरे ट्वीट में कांग्रेस पार्टी ने ट्वीट किया कि राहुल के सदन में पहुंचते ही…उस पिक्चर में पीएम मोदी पर्दे के पीछे से झांक रहे थे.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के लंदन वाले बयान पर हंगामा मचा है, माफी की मांग को लेकर बीजेपी हमलावर है, तो वहीं कांग्रेस इसे अडाणी मुद्दे से और जेपीसी जांच की मांग से ध्यान भटकाने की कोशिश बता रही है.

बीजेपी राहुल से माफी की मांग कर रही है तो वहीं कांग्रेस भी पीएम मोदी के पुराने बयान याद दिला दो टूक कह रही कि माफी का सवाल ही नहीं उठता.

दरअसल, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने हाल ही में लंदन कैंब्रिज विश्वविद्यालय में एक संबोधन में कहा था कि हर कोई जानता है और यह बहुत खबरों में है कि भारतीय लोकतंत्र दबाव में है. मैं भारत में विपक्ष का नेता हूं, हम उन्हें (विपक्ष) को नेविगेट कर रहे हैं.

उन्होंने आगे कहा, ”लोकतांत्रिक संसद के लिए जरूरी संस्थागत ढांचा, स्वतंत्र प्रेस, न्यायपालिका, विचार प्रकट करना सब मुश्किल होता जा रहा है, हम भारतीय लोकतंत्र के मूल ढांचे पर हमले का सामना कर रहे हैं.”

इस बीच स्वदेश लौटे राहुल गांधी संसद भवन पहुंच गए हैं. गांधी से माफी मांगने को लेकर भी सवाल हुआ जिस पर बिना कोई प्रतिक्रिया दिए राहुल गांधी मुस्कुराते हुए अंदर चले गए.

कांग्रेस के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, हमारा मकसद है कि अडाणी मामले की जेपीसी जांच के संबंध में चर्चा होनी चाहिए. हम चाहते हैं कि जेपीसी बने, इसलिए हम विरोध कर रहे हैं. सरकार सुन नहीं रही है, सरकार के मंत्री और बीजेपी सांसद सदन की कार्यवाही स्थगित करने के लिए हंगामा कर रहे हैं.

वहीं, कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा, ”राहुल जी ने ऐसा क्या कहा कि वह यहां भारत में नहीं बोले? पीएम ने खुद पिछली सरकारों को कोसा, उन्होंने ‘यहां पैदा होने पर शर्म आ रही है’ की बात की, क्या यह भारत का अपमान नहीं था? ये सभी प्रयास अडाणी मुद्दे पर जेपीसी पर चर्चा में बाधा डालने के लिए हैं.”

राहुल का कहना है, ”मैंने कुछ भी भारत के विरोध में नहीं बोला. अगर वे अनुमति देंगे तो मैं संसद के अंदर बोलूंगा.”

इससे पहले दिन में केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने राहुल की टिप्पणी को लेकर निशाना साधते हुए कहा कि देशवासी देश की ‘बदनामी’ पर चुप नहीं रहेंगे.

उन्होंने कहा, भारत अब उनकी ‘जागीर’ नहीं रहा और यह सबसे पुरानी पार्टी इसे हजम नहीं कर पा रही है.

रिजिजू ने कहा, “अगर राहुल गांधी कुछ कहते हैं और उसके कारण कांग्रेस मुश्किल में पड़ जाती है, तो हमें इससे कोई लेना-देना नहीं है. लेकिन अगर वह हमारे देश को बदनाम करते हैं, तो इस देश के नागरिक के रूप में हम चुप नहीं बैठेंगे.”

कांग्रेस सांसद ने कहा, ”अगर वे मुझे संसद में बोलने देते हैं तो मैं वही कहूंगा जो मुझे लगता है.”

रिजिजू ने कहा, ”संसद में सांसद होने के नाते उन्होंने (राहुल) संसद को शर्मसार किया है, यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है.”

रिजिजू ने आरोप लगाया कि राहुल ने झूठ बोला कि उन्हें संसद में बोलने नहीं दिया गया. उन्होंने (राहुल) अपनी इच्छा के अनुसार यात्रा की – तो वह कैसे बोल सकते है कि उन्हें बोलने नहीं दिया जाता है.


[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!