33.7 C
Jodhpur

रामप्रसाद मीणा सुसाइड केस : किरोड़ी लाल ने साधे एक तीर से कई निशाने, इन मांगों पर बनी सहमति

spot_img

Published:

राजस्थान के जयपुर में रामप्रसाद मीणा आत्महत्या मामले में गुरुवार देर शाम को शव के पोस्टमार्टम की कार्रवाई की गई। सवाई मानसिंह अस्पताल के चिकित्सकों की टीम पोस्टमार्टम करने के लिए धरना स्थल पर पहुंची। चिकित्सकों ने मौके पर ही पोस्टमार्टम करके शव पुलिस और परिजनों को सौंप दिया. चिकित्सकों ने शव को दूसरे डी फ्रिज में रखने की सलाह दी है. इसके साथ ही प्रशासन और मृतक के परिजनों के बीच वार्ता हुई, जिसमे कुछ मांगों पर सहमति बनी है।डॉक्टर नंदलाल डिसानिया ने बताया कि पोस्टमार्टम करने के बाद शव पुलिस को हैंड ओवर कर दिया गया है। पुलिस की ओर से पंचनामा देने के बाद पोस्टमार्टम की कार्रवाई शुरू की गई थी. करीब 1 से डेढ़ घंटे में पोस्टमार्टम की प्रक्रिया पूरी की गई. इससे संबंधित जानकारी अस्पताल अधीक्षक को दे दी गई है. पोस्टमार्टम के संबंध में पूछने पर उन्होंने कहा कि जानकारी अधिकारियों को दे दिए गए हैं। पुलिस की निगरानी में पोस्टमार्टम किया गया है।

 

राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि किरोड़ी लाल ने लगातार धरना देकर अपने समाज का सियासी मैसेज दिया है कि मीणा समाज के हितों की रक्षा सिर्फ वहीं कर सकते हैं। समाज के किसी व्यक्ति पर संकट आता है तो वह तत्पर रहते है। दूसरा किरोड़ी लाल ने गहलोत सरकार से अपनी मांगे मनवाने में सफल रहे हैं। किरोड़ी की मांगों के आगे गहलोत सरकार को झुकना पड़ा है। एडीएम अब्बू बक्र ने बताया कि परिजनों की डिमांड पर जिला प्रशासन की ओर से वार्ता की गई। इसमें परिजनों की संविदा पर नियुक्ति, अवैध निर्माण को हटाने, डेयरी बूथ के आवंटन की मांगों को मान लिया गया है. परिजनों ने मौके पर ही पोस्टमार्टम करने की भी मांग की थी, जिसे मान लिया गया. डॉक्टर्स की टीम गठित करके जिला कलेक्टर के निर्देशन में मौके पर ही पोस्टमार्टम किया गया। जिला कलेक्टर की तरफ से नियमानुसार मुआवजा मंजूर किया गया है। अब परिजनों से अंतिम संस्कार की प्रक्रिया जल्द करने की समझाइश की जा रही है।

 

रामप्रसाद मीणा ने प्रॉपर्टी विवाद को लेकर 17 अप्रैल को सुसाइड कर लिया था. मरने से पहले उसने वीडियो बनाकर कई लोगों पर प्रतारित करने का आरोप लगाया था। इसके बाद से ही परिजन अपनी विभिन्न मांगों को लेकर धरने पर बैठे हुए हैं। इनमें से कुछ मांगों पर आज सहमति बन गई है। शेष मांगों को लेकर जिला प्रशासन और परिजनों के बीच समझाइश का दौर चल रहा है। जिसके बाद अंतिम संस्कार किया जाएगा।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!