46.1 C
Jodhpur

राजस्थान में फसल बीमा के नाम पर छल, किसानों को 5 से 10 पैसे का भुगतान

spot_img

Published:

वर्ष 2021 में खरीफ फसल के क्लेम का इंतजार कर रहे हजारों किसानों के साथ बीमा कंपनी ने बड़ा मजाक किया है। फसल बर्बाद होने के बाद किसानों ने क्लेम में लागत निकल आने की उम्मीदें लगाई थीं लेकिन वे तब हैरान रह गए जब उनके खाते में महज 5 से 10 पैसे भुगतान किए गए। अब जैसे-जैसे बीमे के भुगतान की रकम किसानों के खाते में जमा हो रही हैं, वे खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। यही नहीं इस मसले पर राजनीतिक दल भी एक-दूसरे पर ‘टोपी ट्रांसफर’ का खेल खेल रहे हैं। बता दें कि साल 2021 में समय पर बारिश नहीं होने के कारण फसलें खराब हो गई थीं। किसानों ने फसल बीमा के लिए हजारों रुपये का प्रीमियम भरा था। 

सोशल मीडिया पर लोग बीमा कंपनियों के खेल का जिक्र कर व्यवस्था की खामियों को कोस रहे हैं। बाड़मेर जिले के नेता और अधिकारी सात सौ करोड़ के क्लेम आने का दावा कर रहे थे लेकिन किसानों के खाते में जमा हुई राशि सरकारों के दावों की पोल खोल रही है। इस बीच बीमा कंपनी ने प्रशासन से कहा है कि 8012 किसानों के बैंक खाते बंद हैं या उनके नंबर सही नहीं होने के कारण बीमा की रकम करीब 8.05 करोड़ रुपये जमा नहीं हो पाई हैं। यानी यह राशि भी अटक गई हैं। अब जिला परिषद ने सभी विकास अधिकारियों, पटवारियों को संबंधित किसानों के सही खाता नंबर जुटाकर जमा करने के निर्देश दिए गए हैं। 

किसानों का कहना है कि नियमानुसार फसल खराब होने पर खेती के हिसाब से लगभग क्लैम की रकम 30 हजार रुपये से लेकर 1 लाख रुपये तक भुगतान की जानी चाहिए। बीमा कंपनी की ओर से किए गए इस भद्दे मजाक को लेकर किसानों की ओर से कई बार जिला मुख्यालय पर विरोध प्रदर्शन किया गया। किसानों ने जिला कलेक्टर के मार्फत प्रधानमंत्री, केन्द्रीय कृषि मंत्रालय और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपे। मामले ने जब तूल पकड़ा तब क्लैम देने की घोषणा की गई। 

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!