33.7 C
Jodhpur

राजस्थान में फसल खराबे पर मंत्री के जवाब से असंतुष्ट विपक्ष का हंगामा

spot_img

Published:

राजस्थान के कई जिलों में बेमौसम बरसात और ओलावृष्टि से हुई फसल खराबे का मामला आज  विधानसभा में उठा। फसल खराबे पर मंत्री के जवाब से असंतुष्ट विपक्ष ने हंगामा करते हुए सदन से वॉकआउट कर दिया। दरअसल सदन में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के बाद उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, भाजपा विधायक सतीश पूनिया, मदन दिलावर सहित कई अन्य विधायकों ने फसल खराबे का मामला सदन में उठाया और सदन में फसल खराबे पर चर्चा की मांग की थी। आपदा प्रबंधन एवं राहत मंत्री गोविंदराम मेघवाल ने कहा कि जल्द ही गिरदावरी के बाद किसानों को राहत मिलेगी। आरएलपी संयोजक एवं सांसद हनुमान बेनीवाल ने सीएम गहलोत को पत्र लिखकर प्रभावित किसानों को मुआवजा देने की मांग की है। 

 मंत्री गोविंद राम मेघवाल न फसल खराबे को लेकर अपना वक्तव्य दे रहे थे इसी दौरान नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि सरकार ने तमाम जिलों के कलेक्टर को निर्देश दिए हैं कि केवल 30 फ़ीसदी ही फसल खराबा दिखाए जाएं इसे लेकर विपक्ष ने सरकार पर किसानों की उपेक्षा करने के आरोप लगाए और सदन में हंगामा कर दिया। इस पर मंत्री मेघवाल कुछ कहना चाह रहे थे लेकिन विपक्ष ने हंगामा कर दिया और थोड़ी देर बाद सदन से वॉकआउट कर दिया। विपक्ष के सदन से वॉकआउट करने के बाद आपदा प्रबंधन मंत्री गोविंद राम मेघवाल ने राजेंद्र राठौड़ के आरोपों को नकार दिया और कहा कि सरकार ने इस तरह के कोई आदेश कलेक्टर को नहीं दिए हैं विपक्ष के लोग बेवजह इस तरह के आरोप लगा रहे हैं। हमारी सरकार संवेदनशील हैं और किसानों के साथ खड़ी है। इससे पहले विपक्ष के कई नेताओं ने ट्वीट करके भी गहलोत सरकार से जल्द से जल्द फसल खराबे की गिरदावरी करवाकर पीड़ित किसानों को मुआवजा देने की मांग की थी।

रविवार को जयपुर, अलवर, बांसवाड़ा समेत कई जिलों में ओले गिरने के साथ बारिश हुई थी। वहीं अगले दो दिन जोधपुर, बीकानेर, अजमेर, जयपुर, उदयपुर, कोटा और भरतपुर संभाग में बारिश के साथ बिजली गिरने की भी आशंका है। राजस्थान में किसान की मेहनत और फसल खराबे के मामले आधा दर्जन से ज्यादा जिलों से सामने आए हैं. प्रदेश के जयपुर, सीकर, दौसा, अलवर समेत झुंझुनूं, हनुमानगढ़ और हाड़ौती के बूंदी और मारवाड़ के बाड़मेर में कई जगह ओलावृष्टि हुई है। दौसा के लालसोट, रामगढ़ पचवारा, चांदराना और भांडारेज सहित कई जगह चने के आकार के ओलों की चादर बिछ गई। 

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!