31.9 C
Jodhpur

राजस्थान में डाॅक्टरों की हड़ताल पर गहलोत सरकार नहीं हटेगी पीछे

spot_img

Published:

राजस्थान में प्राइवेट अस्पतालों के डाॅक्टरों और संचालकों की हड़ताल पर सीएम गहलोत ने कहा कि डाॅक्टर को भगवान का रूप मानते है, उन्हें उसी रूप में आगे आना चाहिए। जोधपुर में मीडिया से बात करते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि सभी मांगे मान ली गई। अचानक ऐसा क्या हुआ का कि उन्हें सड़क पर आना पड़ा। सीएम गहलोत ने जोधपुर एयरपोर्ट पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि चाहे मीडियाकर्मी हो, जनप्रतिनिधि हो या डाॅक्टर हो, सभी जो जनसेवा के लिए आगे आना चाहिए। सभी का उद्देश्य जनसेवा का होता है। डाॅक्टर को भगवान का रूप मानते है। उन्हें उसी रूप में सेवा करनी चाहिए। सीएम गहलोत ने कहा कि सभी मांगों को स्वीकार कर लिया था, अचानक ऐसा क्या हुआ कि उन्हें सड़कों पर आना पड़ा। सीएम गहलोत ने राइट टू हेल्थ बिल का विरोध कर रहे डाॅक्टरों से आह्वान किया कि वे जनसेवा के लिए आगे आए। दूसरी तरफ हड़ताली डाॅक्टर आज राज्यपाल से मिलेंगे। राज्यपाल ने मिलने का समय दे दिया है। माना जा रहा है कि तीन बजे के आसपास राज्यपाल से मुलाकात हो सकती है। 

सीएम गहलोत ने मीडिया से बात करते हुए केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत पर भी निशाना साधा है। सीएम गहलोत ने कहा कि वित्त आयोग के चेयरमैन ने चार अतिरिक्त प्रोजेक्ट राजस्थान को दिए। जिसमें से एक फिनटेक यूनिवर्सिटी का प्रोजेक्ट भी शामिल था। केंद्रीय मंत्री ने ये मांग की थी कि जोधपुर में खुलना चाहिए। इसके बाद केंद्र सरकार ने मना कर दिया। तो हमारी सरकार ने 650 करोड़ की लागत से यहां फिनटेक यूनिवर्सिटी का काम शुरू किया है। 

सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान आज देश का माॅडल राज्य बन गया है। हम सरकार रिपीट करवाएंगे। यदि जनता हमारा साथ देगी तो ऐसी कई कल्याणकारी योजनाओं को मजबूती मिलेगी। राज्य सरकार ने ओपीएस लागू किया है। जिसका भाजपा विरोध कर रही है। केंद्र सरकार कब  तक हिंदू-मुस्लिम करके अपना शासन चलाएगी। अब भाजपा मुस्लिमों को गले लगाने की बात कह रही है। जब मुस्लिमों को किनारे कर दिया। सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान में हर जाति और धर्म को बराबर का महत्व दिया जाता है।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!