31.9 C
Jodhpur

राजस्थान में कई मंत्रियों विधायकों के कटेंगे टिकट? रंधावा ने दिए संकेत

spot_img

Published:

राजस्थान में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं। इसको लेकर सूबे में अभी से सियासी सरगर्मी देखी जा रही है। भाजपा सत्ता में वापसी की कोशिशों में जुट गई है तो दूसरी तरफ सूबे की सत्ता पर काबिज कांग्रेस के सामने सरकार को बरकरार रखने की चुनौती है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का कहना है कि चार साल सत्ता में रहने के बाद भी कांग्रेस के सामने सत्ता विरोधी लहर का जोखिम नहीं है। हालांकि, इस दावे से इतर कांग्रेस के राजस्थान प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा विधायकों और मंत्रियों के प्रदर्शन की समीक्षा किए जाने की बात कहने लगे हैं।

मीटिंग में नहीं आए पायलट, गहलोत बोले- यह गंभीर बात है; जानें मामला

रंधावा ने स्पष्ट तौर पर कहा कि यह आखिरी साल है इसलिए नेताओं का प्रदर्शन देखा जाएगा। मंत्रियों, विधायकों और पार्टी नेताओं को उनके प्रदर्शन के आधार पर ही टिकट दिए जाएंगे। मैंने मुख्यमंत्री से कहा है कि वह नरम हैं। चुनावी साल में पार्टी को कड़ा फैसला लेना है। कोई भी घर बिना सख्ती के नहीं चल सकता है। इसलिए हम सख्ती करेंगे। हमें गांव गांव जाकर पार्टी के लिए काम करना होगा। जीरो परफारमेंस वाले मंत्रियों नेताओं को टिकट देकर क्या होगा। ऐसे नेताओं को हम टिकट नहीं देंगे।

हर बार इनकी पिटाई होती है, बीजेपी का नाम ले गहलोत ऐसा क्यों बोले 

समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, ‘हाथ से हाथ जोड़ो’ अभियान की तैयारी बैठक में राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने जिला समन्वयक नियुक्त किए। ये समन्वयक जिलों में प्रभारी मंत्री से चर्चा करेंगे और प्रत्येक प्रखंड में एक-एक समन्वयक नियुक्त कराएंगे। कांग्रेस के नेता हर बूथ का दौरा करेंगे और लोगों को राज्य सरकार की प्रमुख योजनाओं के लाभों से अवगत कराएंगे। अशोक गहलोत ने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सत्ता विरोधी लहर नहीं होने को एक अवसर के तौर पर भुनाना चाहिए।

गहलोत ने वसुंधरा राजे के इस काम की जमकर की तारीफ, जानें मामला

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!