33.7 C
Jodhpur

राजस्थान बीजेपी की जन आक्रोश रैली, पूनिया ने सीएम गहलोत को घेरा 

spot_img

Published:

राजस्थान में कांग्रेस सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ पूरे राजस्थान में चल रही भाजपा की जन आक्रोश महासभायें 156 से अधिक विधानसभा क्षेत्रों में हो चुकी हैं, आगामी दिनों में सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों में होंगी।इसी क्रम में आमेर विधानसभा क्षेत्र के रामपुरा मंडल में भाजपा जन आक्रोश महासभा को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां, भाजपा राष्ट्रीय मंत्री एवं प्रदेश सह प्रभारी विजया राहटकर, उपनेता प्रतिपक्ष एवं भाजपा वरिष्ठ नेता राजेन्द्र राठौड़ ने संबोधित कर 2023 में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में तीन चौथाई बहुमत की भाजपा सरकार बनाने का संकल्प और आह्वान किया, जहां मौजूद अपार जनसमूह ने हाथ उठाकर संकल्प का समर्थन किया।

गहलोत ने वसुंधरा राजे के इस काम की जमकर की तारीफ, जानें मामला

सतीश पूनियां ने संबोधित करते हुये कहा कि, भाजपा की सरकार में 2013 से 2018 के बीच में आमेर में 1500 करोड़ के विकास कार्य करवाये, जिसमें केन्द्र की श्री मोदी सरकार और प्रदेश की भाजपा सरकार के जरिये खूब काम हुये।मेरे जैसे सामान्य किसान परिवार में जन्मे कार्यकर्ता को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा और भाजपा केन्द्रीय नेतृत्व ने राजस्थान जैसे बड़े प्रदेश का मुख्य कार्यकर्ता बनाकर जो जिम्मेदारी दी, वह प्रदेश के किसानों, युवाओं, माता-बहनों और गरीबों का सम्मान है।विधायक कोष से आमेर की जनता के विकास कार्यों में राशि खर्च करने में मुझे पता चला कि शत प्रतिशत राशि विधायक कोष की खर्च की और निर्धारित राशि से अधिक खर्च कर आमेर का पूरे राजस्थान में पहला नंबर आया तो मुझे बहुत खुशी हुई, यह प्रत्येक आमेरवासी का सम्मान है।राज्य सरकार की ओर से आमेर विधायक कोष के रूप में मुझे अब तक 14 करोड़ 25 लाख रुपए मिले, जिसके मुकाबले विधायक कोष से 14 करोड़ 84 लाख रुपए खर्च कर दी, जो 104 प्रतिशत से अधिक है।

सतीश पूनिया ने कहा कि आमेर की जालसू पंचायत समिति क्षेत्र में संचालित मॉडल सीएचसी पूरे राजस्थान की सीएचसी के लिये बेहतरीन उदाहरण है सुविधाओं को लेकर, जिसमें वेंटिलेटर सहित तमाम चिकित्सा सुविधायें हैं, इस काम में चिकित्सा मंत्री रहते हुये मेरे बड़े भाई राजेन्द्र राठौड़ का बहुत बड़ा योगदान है, जिसके लिये उन्होंने करोड़ों रुपये की राशि आवंटित की थी। राजस्थान का कोई व्यक्ति नहीं भूल सकता कि करौली, भीलवाड़ा, जोधपुर, उदयपुर सहित तमाम जिलों में जो कांग्रेस शासन में दंगे हुये, उदयपुर का कन्हैयालाल साहू हत्याकांड कोई नहीं भूल सकता, जिनका दिनदहाड़े सिर कलम कर हत्या कर दी गई। कोई नहीं भूल सकता कि कांग्रेस शासन में हिन्दू नववर्ष, रामनवमी के जुलूसों पर पत्थरबाजी हुई, प्रतिबंध लगाये गए।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!