32.4 C
Jodhpur

राजस्थान: कांग्रेस के 91 MLAS के इस्तीफे केस पर कोर्ट ने जताई नाराजगी

spot_img

Published:

राजस्थान हाईकोर्ट ने कांग्रेस के 91 विधायकों के इस्तीफों पर निर्णय करने पर देरी को लेकर नाराजदी जताई है। हाईकोर्ट ने विधानसभा सचिव को मामले में नए सिरे से शपथ पत्र पेश करने के आदेश दिए है। चीफ जस्टिस पंकज मिथल और शुभा मेहता की खंडपीठ ने आदेश दिया। विधानसभा क ओर से अधिवक्ता महेंद्र सिंह ने पैरवी की। बीजेपी नेता राजेंद्र सिंह राठौड़ की याचिका पर आज राजस्थान हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। अब इस मामले की सुनवाई 30 जनवरी को होगी। 

बता दें, पिछले साल 25 सितंबर को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समर्थन में कांग्रेस के विधायकों ने अपने इस्तीफे  विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी को इस्तीफा सौंप दिए थे। हालांकि, अब कांग्रेस के विधायकों ने इस्तीफे वापस ले लिए है। 91 विधायकों के मामले में विधानसभाध्यक्ष की ओर से कोई फैसला नहीं लेने पर उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ की ओर से हाईकोर्ट में दायर की याचिका पर आज फिर सुनवाई हुई। उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने स्वयं ही इस मामले में पैरवी की। इस मामले में पूर्व में हाईकोर्ट ने विधानसभा सचिव और अन्य को नोटिस जारी करके 3 सप्ताह में जवाब पेश करने के निर्देश दिए थे। 

कांग्रेस विधायकों द्वारा इस्तीफा वापस लेने पर भाजपा ने सरकार को घेरा था। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने कहा कि पिछले चार वर्षों से अपराध और बेरोजगारी अपनी पराकाष्ठा पर थे। लेकिन किस्सा कुर्सी का खेल ने भी जनता को खूब परेशान किया। इनके अंतर्विरोध ने राजस्थान की राजनीति को कलंकित किया। कभी ऐसा नहीं हुआ जब किसी पार्टी के उप मुख्यमंत्री को बर्खास्त करना पड़े। उन्होंने कहा कि स्पीकर को स्वेच्छा से इस्तीफा तो दिया जा सकता है, लेकिन इस्तीफे वापस लेने का कोई उल्लेख नहीं है। कांग्रेस यूटर्न लेने में माहिर है। यह इनकी फितरत है।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!