25.7 C
Jodhpur

‘मैंने संघर्ष किया तभी सत्ता में आए’, पायलट ने दिया गहलोत को जवाब 

spot_img

Published:

राजस्थान में सीएम गहलोत और सचिन पायलट के बीच एक बार फिर इशारों में जुबानी जंग तेज हो गई है। दोनों नेताओं के 2018 में सत्ता वापसी को लेकर मतभेद खुलकर सामने आ गए है। सीएम गहलोत ने गुरुवार को कहा कि मेरी सरकार के पुराने कामों की वजह से 2018 में कांग्रेस की वापसी हुई। सीएम ने कहा कि सरकार जाते ही लोग 6 महीने में कहने लग जाते है कि पुरानी सरकार अच्छी। लोगों की मंशा यही रहती है कि अशोक गहलोत सीएम बने। बता दें, सीएम के बयान से पहले ही सचिन पायलट कहते रहे हैं कि मैंने संघर्ष किया तभी हम सत्ता में आए। कार्यकर्तांओं ने सड़क पर संघर्ष किया। वसुंधरा राजे सरकार के घोटालों के खिलाफ संघर्ष किया। खून पसीना बहाया। तभी हम सरकार बनाने में सफल रहे। पायलट के बयान को सीएम अशोक पर निशाने के तौर पर देखा गया था। सीएम गहलोत ने इसका जवाब भी गुरुवार को दे दिया है।

सीएम गहलोत ने कहा कि मेरी अंतरात्मा कर रही है कि इस बार हमारी सरकार आएगी। मैं सीएम बनूंगा। सीएम गहलोत ने कहा कि मैं कोई बात बोलता हूं। सोच समझकर बोलता हूं। दिल की बात जुबान पर आती है। मुझे गाॅड गिफ्ट है। तो मुझे लगता है। जनता इस बार साथ देगी। सीएम गहलोत ने कहा कि इस बार कर्मचारियों की नाराजगी नहीं है। मोदी जी की हवा नहीं है। सत्ता विरोधी माहौल नहीं है। मैं उम्मीद करता हूं। इस बार जनता हमारा साथ देगी। विपक्ष कमिया बताए। जनता को उनको स्वीकार करने वाली नहीं है। सीएम गहलोत ने कहा कि नड्डा जी आ रहे हैं, मोहन भागवत आए है। राजस्थान को देश के अंदर टारगेट बनाया जा रहा है। गहलोत ने कहा कि सरकार बचती नहीं तो मैं फैसले कैसे करता। 

सीएम गहलोत ने सचिन पायलट की बगावत को याद करते हुए कहा कि वर्ष 2020 में जिन विधायकों ने मेरी सरकार बचाई थी। मैं उनका अहसान नहीं भूलता हूं। मेरी सरकार नहीं बचती अहम निर्णय नहीं हो पाते। सीएम गहलोत ने कहा कि मैं सीएम हूं इसलिए तो पुरानी पेंशन योजना बहाल हो पाई है। लोगों को फ्री में इलाज मिल रहा है। कोरोना काल में किसी को भूखे नहीं सोने दिया गया। सरकार बचने पर ही ये बड़े फैसले हो पाए।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!