32.4 C
Jodhpur

मुख्यमंत्री गहलोत का दावा, जन घोषणा-पत्र के 96 फीसदी वादे किए पूरे

spot_img

Published:

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को जन घोषणा-पत्र के 96 फीसदी वादे पूरे करने का दावा किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने ‘जन सेवा ही कर्म, जन सेवा ही धर्म’ के सूत्र वाक्य के साथ पारदर्शी और जवाबदेह सुशासन को धरातल पर साकार किया है। सरकार ने जनता से किए गए वादों को पूरा करने का हरसंभव प्रयास किया है। मुख्यमंत्री सोमवार को जयपुर के हरिश्चंद्र माथुर लोक प्रशिक्षण संस्थान में राज्य सरकार के कामकाज को लेकर आयोजित चिंतन शिविर की अध्यक्षता कर रहे थे। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सीमित संसाधनों, कोरोना महामारी सहित अन्य प्रतिकूलताओं के चलते इन घोषणाओं को पूरा करना आसान नहीं था, लेकिन राज्य सरकार ने दिन-रात एक कर जनता से किए वादों को पूरा किया। इसी का नतीजा रहा कि राजस्थान 11.04 प्रतिशत आर्थिक विकास दर हासिल कर पूरे देश में सकल घरेलू उत्पाद में दूसरे स्थान पर रहा है। प्रति व्यक्ति आय में भी वृद्धि दर्ज की गई है। गहलोत ने कहा कि देश में सबसे पहले राजस्थान में पुरानी पेंशन योजना (ओपीएस) फिर से लागू कर सरकारी कर्मचारियों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान की गई।  

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने राजस्थान को बीमारू राज्य की श्रेणी से बाहर निकालकर ‘मॉडल स्टेट’ की श्रेणी में शामिल कर दिया है। हमारा लक्ष्य है कि राजस्थान विकास के हर पैमाने पर अव्वल हो। बता दें कि राज्य सरकार का दो दिवसीय चिंतन शिविर सोमवार से शुरू हुआ है। शिविर में पहले दिन चिकित्सा और  स्वास्थ्य सहित 14 विभागों की विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रमों, बजट घोषणाओं, जन घोषणाओं एवं महत्वपूर्ण फैसलों के क्रियान्वयन और भावी योजनाओं को लेकर चिंतन किया गया।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!