36 C
Jodhpur

पायलट को डायवर्ट करने मोदी दौसा आएंगे, यूं समझिए, सियासी गणित

spot_img

Published:

राजस्थान में गुर्जर वोट बैंक के बाद बीजेपी की नजर आदिवासी वोट बैंक पर है। पीएम मोदी का राजस्थान का फिर कार्यक्रम बना है। पीएम मोदी 4 फरवरी को दिल्ली-दौसा खंड जनता को समर्पित करने के लिए राजस्थान के दौसा जिले आएंगे। पीएम मोदी नांगल राजावतान स्थित मीणा पंच अस्थाई में दिल्ली-दौसा खंड का उद्घाटन करेंगे। एनएचएआई उद्घाटन की तैयारियों में जुट गया है। इसके चालू होने के बाद दौसा से दिल्ली पहुंचने में डेढ़ से 2 घंटे लगेंगे। पीएम मोदी के आने की जानकारी बीजेपी प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने बीजपी सांसद किरोड़ी लाल मीना को दी है। पांच महीने में पीएम मोदी का चौथा राजस्थान का दौरा होगा। राजस्थान में विधानसभा चुनाल 2023 के अंत में होने है। ऐसे में पीएम मोदी के दौरे को लेकर राजनीतिक विश्लेषक अलग-अलग सियासी मायने निकाल रहे हैं। विश्लेषकों का मानना है कि पीएम मोदी का दौरा भले ही सियासी न हो, लेकिन बीजेपी पीएम मोदी को राजस्थान बार-बार बुलाकर कांग्रेस के परंपरागत वोट बैंक में सेंध लगाना चाहती है। 

दौसा जिला पूर्वी राजस्थान की राजनीति का प्रमुख केंद्र माना जाता है। पूर्वी राजस्थान के अलवर, भरतपुर, धौलपुर, करौली, टोंक, सवाई माधोपुर, दौसा में 39 विधानसभा सीटें हैं।  स्वर्गीय राजेश पायलट दौसा से कई बार सांसद बनकर केंद्रीय मंत्री बने हैं। दौसा में पायलट फैमिली का खासा प्रभाव माना जाता है। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को पूर्वी राजस्थान में खासा समर्थन मिला था। दौसा में जबर्दस्त भीड़ उमड़ी थी, इसके पीछे सचिन पायलट प्रमुख वजह मानी गई थी। ऐसे में राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है पूर्वी राजस्थान मे मीणा समुदाय खासी तादात में है। बीजेपी इन्हें अपने पाले में लाना चाहती है। पूर्वी राजस्थान की राजनीति में मीणा-गुर्जर का दबदबा रहता आया है। दौसा, अलवर, सवाई माधोपुर और जयपुर के कुछ हिस्सों में मीणा समाज खासी तादात में है। कांग्रेस का परंपरागत वोट बैंक माना जाता रहा है। विधानसभा चुनाव 2018 में पूर्वी राजस्थान में बीजेपी को 39 में से मात्र एक सीट मिली थी। वसुंधरा राजे के धौलपुर से शोभारानी कुशवाह ने जीत हासिल की थी। वह भी अब बीजेपी में नहीं है। हालांकि बीजेपी नेता सियासी मकसद से साफ इनकार कर रहे हैं। 

\बता दें, 30 सितंबर 2022 को गुजरात से लौटते समय पीएम मोदी देर रात आबू रोड हेलीपेड पहुंचे थे। उन्होंने कार्यक्रम के मंच से राजस्थान की धरती को तीन बार झुककर प्रणाम किया था। बीते साल 1 नवंबर 2022 को पीएम मोदी ने बांसवाड़ा जिले के हनुमानगढ़ धाम का दौरा किया था। आदिवासियों को साधने की कोशिश की थी। मानगढ़ में पीएम मोदी की पहली बड़ी जनसभा थी। 28 जनवरी को पीएम मोदी ने भीलवाड़ा जिले के आसींद में गुर्जर समाज के संदेश दिया।  गुर्जरों की आस्था के केंद्र भगवान देवनारायण की जयंती समारोह में शामिल हुए। अब पीएम मोदी का 4 फरवरी को दौसा में आना प्रस्तावित है। 

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!