32.4 C
Jodhpur

पायलट को आलाकमान के फैसले का इंतजार, बताया क्यों गहलोत पर उठाए सवाल

spot_img

Published:

राजस्थान कांग्रेस में एक बार फिर अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच कड़वाहट बढ़ती दिख रही है। सचिन पायलट के मंच से अशोक गहलोत सरकार को निशाना बनाए जाने के बाद पूर्व उपमुख्यमंत्री ने एक बार फिर अपनी सरकार को नसीहत दी है कि पेपर लीक केस में ‘बड़ी मछलियों’ को पकड़ा जाए। 2018 से ही मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नजर टिकाए पायलट ने अब भी उम्मीद नहीं छोड़ी है। हालांकि,नेतृत्व परिवर्तन का फैसला उन्होंने पार्टी नेतृत्व पर छोड़ते हुए यह भी याद दिलाया कि चुनाव में बेहद कम समय है।

पायलट ने आगे कहा कि जो बच्चे मेहनत करत हैं, ट्यूशन पढ़ते हैं, किताबें खरीदते हैं। इसकी चिंता सबको है, सरकार को भी है। तभी तो हमने लोगों को पकड़ा है। मैं तो चाहता हूं कि भविष्य में इस तरह की घटना ना हो, लोगों का इकबाल कायम रहे, नौजवानों की उम्मीद जगी रहे। जो भी लोग उनके पीछे हैं उन तक सरकार की जांच पहुंचनी चाहिए। सरकार ने काम भी किया है, कई लोगों को पकड़ा है उनके घरों को तोड़ा है, स्वागत योग्य काम है। लेकिन छोटे मोटे जो दलाल हैं उनके ऊपर भी लोग होंगे, उन तक जांच पहुंचनी चाहिए। मैंने इतना कहा था कि सरकार ने काम किया है लेकिन और भी कुछ लोग हैं तो उन्हें पकड़ना चाहिए।

विधायक दल की बैठक से पहले हुए हंगामे और इसके कसूरवालों पर फैसले से जुड़े सवाल पर पायलट ने कहा कि इस पर जो कुछ भी करना है वह कांग्रेस नेतृत्व को करना है, खड़गे साहब हैं, पार्टी लीडरशिप है को करना है। जो भी प्रकरण है उनके संज्ञान में है, क्या करते हैं, कब करते हैं, उनपर निर्भर करता है। हम चाहते हैं कि कांग्रेस पार्टी के सभी लोग मिलकर सरकार रिपीट कराएं। क्या पार्टी को जल्द इस पर कोई फैसला करना चाहिए? पायलट ने कहा कि चुनाव में कम समय बचा है। हम लोगों को जमीन पर उतरना पड़ेगा,जनता के बीच जाना होगा। लोगों के साथ विश्वास कायम करना जरूरी है, मैं उसके लिए काम कर रहा हूं। जो भी बात करनी है, किसको क्या जिम्मेदारी देनी है यह काम कांग्रेस नेतृत्व का है।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!