29.7 C
Jodhpur

नए देशों में UPI सर्विस लॉन्च: इन 10 देशों में रहने वाले भारतीयों को भारत सरकार देगी UPI पेमेंट की सुविधा, यहां जानें पूरी लिस्ट लिस्ट

spot_img

Published:

नए देशों में शुरू हुई UPI सर्विस: भारत जल्द ही UPI यानी यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस को ग्लोबली बना देगा। यह पहल फिलहाल दस देशों के लिए की जा रही है। अगर ऐसा होता है तो इन देशों में रहने वाले भारतीय अपने अंतरराष्ट्रीय मोबाइल नंबरों का इस्तेमाल कर यूपीआई भुगतान कर सकेंगे।

यही नहीं, एनआरआई यानी इन दस देशों के प्रवासी भारतीय भी भारत में अपने फोन नंबर पर निर्भर हुए बिना लेनदेन के लिए यूपीआई सेवा का उपयोग कर सकते हैं।

जिन देशों में यह पहल शुरू की जा रही है उनमें सिंगापुर, यूएसए, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, हांगकांग, ओमान, कतर, सऊदी अरब, यूएई और यूनाइटेड किंगडम शामिल हैं। भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय मोबाइल नंबर वाले NRE/NRO जैसे खाते UPI का उपयोग करके लेनदेन कर सकते हैं। पेमेंट्स कॉरपोरेशन ने पार्टनर बैंकों को निर्देश जारी कर उन्हें अनुपालन के लिए 30 अप्रैल तक का समय दिया है।

एनआरआई और एनआरओ खाताधारक लेनदेन कर सकेंगे

एक एनआरआई खाता एनआरआई को विदेशी कमाई को भारत में स्थानांतरित करने में मदद करता है। जबकि, एनआरओ खाता उन्हें भारत में अर्जित आय का प्रबंधन करने में मदद करता है। हालांकि इसके लिए एक शर्त भी रखी गई है और वह यह है कि बैंकों को यह सुनिश्चित करना होगा कि ऐसे खातों को फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट के नियमों के तहत अनुमति दी जाए।

साथ ही इस संबंध में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना होगा और मनी लॉन्ड्रिंग या आतंकवादी वित्तपोषण के खिलाफ सुरक्षा का पालन करना होगा।

दिसंबर में 12 लाख करोड़ रुपए का यूपीआई ट्रांजैक्शन हुआ

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली एक कैबिनेट समिति ने बुधवार को RuPay डेबिट कार्ड और कम मूल्य के BHIM-UPI लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए कुल 2600 करोड़ रुपये की योजना को मंजूरी दी। . अधिकारियों के मुताबिक, बड़े यूपीआई से अंतरराष्ट्रीय छात्रों, विदेश में रहने वाले परिवारों और स्थानीय व्यवसायों को काफी मदद मिलेगी।

RuPay और UPI का उपयोग करके लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए इस योजना के तहत बैंकों को वित्तीय प्रोत्साहन भी प्रदान किया जाएगा। इस संबंध में, प्रधान मंत्री मोदी ने एक ट्वीट में कहा, RuPay डेबिट कार्ड और BHIM-UPI लेनदेन को बढ़ावा देने के कैबिनेट के फैसले से डिजिटल भुगतान में भारत की प्रगति को और मजबूती मिलेगी।

सिर्फ छह साल में यूपीआई ट्रांजैक्शन में जबरदस्त उछाल आया है। पिछले साल दिसंबर में 12 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का यूपीआई ट्रांजैक्शन हुआ था।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!