32.4 C
Jodhpur

चुनाव से पहले कांग्रेस में टूट का डर, गहलोत-पायलट में होगी आर-पार जंग?

spot_img

Published:

राजस्थान में विधानसभा चुनाव नजदीक आने के साथ कहां तो कांग्रेस को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से लड़ने की तैयारी करनी थी, लेकिन पार्टी एक बार फिर आंतरिक कलह में उलझती दिख रही है। प्रदेश में पार्टी के दो सबसे बड़े नेता अशोक गहलोत और सचिन पायलट एक दूसरे पर खुलकर वार-पलटवार करने में जुट गए हैं। राजनीतिक जानकारों की मानें तो जिस तरह लंबे समय तक सब्र किए बैठे सचिन पायलट ने भी खुलकर बोलना शुरू कर दिया है उससे हालात एक बार फिर 2020 जैसे होने के आसार बढ़ गए हैं। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि क्या चुनाव से पहले कांग्रेस दो फाड़ हो जाएगी?

वसुंधरा राजे और गहलोत में चल रही है राजनीतिक जुगलबंदी? पायलट ने घेरा

क्या खत्म हो गया सचिन पायलट का सब्र?
अपने ‘सब्र’ के लिए राहुल गांधी से तारीफ पा चुके पायलट ने लंबे समय बाद अपनी सरकार और इसके मुखिया गहलोत को निशाना बनाना शुरू किया है। राजस्थान की राजनीति पर करीब से निगाह रखने वाले राजनीतिक जानकारों का कहना है कि 2020 से ही वह पार्टी नेतृत्व खासकर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के आश्वासन की वजह से चुप रहे। तब समर्थक विधायकों के साथ बगावत करने वाले पायलट से पार्टी ने कुछ वादे किए थे जिन्हें अब तक पूरा नहीं किया गया है। पिछले दिनों गहलोत को पार्टी अध्यक्ष बनाकर प्रदेश की कमान पायलट को सौंपे जाने की योजना भी विफल रही। अब तक पार्टी गहलोत के खिलाफ कोई ऐक्शन नहीं ले पाई और पायलट को अब यह लगने लगा है कि उन्हें अपनी जंग खुद लड़नी पड़ेगी। बताया जा रहा है कि पायलट पार्टी को संदेश देना चाहते हैं कि जनता गहलोत के कामकाज से खुश नहीं है और अगले चुनाव से पहले उन्हें सीएम उम्मीदवार घोषित कर दिया जाए।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!