46.1 C
Jodhpur

गहलोत बोले- PM मोदी ने 4 साल बाद मेरी मांग को किया पूरा, जानें मांग

spot_img

Published:

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि पीएम मोदी ने चार साल बाद मेरी मांग को पूरा किया है। सीएम ने कहा कि वे गुलाब चंद कटारिया को राज्यपाल बनाने की लंबे समय से मांग करते रहे हैं। दअरसल, राजस्थान विधानसभा में सोमवार को कॉमनवेल्थ पार्लियामेंट्री एसोसिएशन का सत्र आयोजित किया गया था। असम के राज्यपाल पद की शपथ लेने के बाद पहली बार राजस्थान आए गुलाबचंद कटारिया के सम्मान के साथ ही इस सत्र में बेस्ट विधायक के रूप में अमीन खान और अनिता भदेल का सम्मान किया गया। इस दौरान सीएम गहलोत ने कहा कि प्रधानमंत्री को धन्यवाद जो 4 साल बाद उन्होंने कटारिया को राज्यपाल बनाने की मांग को पूरा किया। बता दें नेता प्रतिपक्ष रहे कटारिया कई बार बहस के दौरान गुस्से में हो जाया करते थे। तब सीएम गहलोत ने उम्र का हवाला देकर कटारिया को राज्यपाल बनाने की मांग कर तंज कसते रहे हैं। 

सीएम गहलोत ने कहा कि हमारा सौभाग्य है कि देश को महात्मा गांधी जैसे नेता मिले। पंडित नेहरू, सरदार पटेल और मौलाना आजाद, डॉक्टर अंबेडकर ने संविधान बनाया। उन्होंने कहा कि हमारे संविधान की खासियत थी कि यहां कभी भेदभाव नहीं किया गया। यही कारण है कि अमेरिका और इंग्लैंड जैसे देशों में महिलाओं को वोटिंग का अधिकार बाद में मिला। हमारे देश में पहले दिन से ये अधिकार महिलाओं को था। सीएम गहलोत ने कहा कि पाकिस्तान हमारे साथ आजाद हुआ था। आज पाकिस्तान की क्या स्थिति है, यह सब जानते हैं. लोकतंत्र में हमारा भरोसा इतना है कि इंदिरा गांधी ने चुनाव हारते ही मोरारजी देसाई को सत्ता सौंप दी, जिसका हम सबको फक्र है। सीएम गहलोत ने कहा कि अब कटारिया राज्यपाल बन चुके हैं, ऐसे में मैं कोई राजनीतिक भाषण नहीं दूंगा। जो बात हमारे दिलों में है, वह बात आप प्रधानमंत्री तक पहुंचाएंगे। आप केवल असम के राज्यपाल नहीं हैं, आप पार्टी के पुराने कार्यकर्ता और संसदीय लोकतंत्र का सम्मान करने वाले व्यक्ति हैं।

गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि आज मैं लोकतंत्र के मंदिर में खड़ा हूं, जहां जनता की बात रखी जाती है। अब मैं राज्यपाल बन गया हूं तो मुझे कहा गया कि आपको लिखा हुआ पढ़ना पड़ेगा। मैं इस तरह का व्यक्ति नहीं हूं. जिसमें देश की जनता का भला होता है। वही बात मेरे मन से निकलती है। मैं वही कहने का प्रयास करता हूं। उन्होंने कहा कि देश की जनता ने ही हमें चुनकर भेजा है और हम सरकार चलाते हैं। विधानसभा जितनी ज्यादा दिन चलती है, जनता की बात को हम उतनी ही कुशलता पूर्वक रख सकते हैं। सदन की कार्रवाई ही लोकतंत्र की सफलता का सबसे बड़ा आधार है। जनप्रतिनिधि ही प्रभावी और सार्थक लोकतंत्र बनाते हैं। जनता हमें इसी आशा के साथ चुनती है कि हम विधानसभा या लोकसभा में चर्चा कर जनता के काम करेंगे. कटारिया ने कहा कि अगर सदन की कार्यवाही नहीं होती है तो दिन खराब हो जाता है। इसकी पीड़ा हम सबको होती है। ऐसे में सबसे विनम्र प्रार्थना है कि जितने दिन सदन चलेगा उतना ही जनता को फायदा होगा।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!