46.1 C
Jodhpur

गहलोत ने पूछा- मैं हिंदू नहीं हूं क्या? BJP पर धर्म की राजनीति का आरोप

spot_img

Published:

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर भाजपा पर धर्म की राजनीति करने का आरोप लगाया है। गहलोत ने साथ में पूछा कि मैं हिंदू नहीं हूं क्या? देश में महंगाई और हिंसा बढ़ रही है। ऐसे में विपक्ष हिंदू-मुसलमान की राजनीति कर रहा है। मुख्यमंत्री बुधवार को राज्य स्तरीय पशुपालक सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे। उत्तर प्रदेश को पीछे छोड़कर दूध उत्पादन में राजस्थान के पहले पायदान पर आने पर भी सीएम ने खुशी जताई और पशुपालकों को बधाई दी। बता दें इससे पहले भी सीए गहलोत धर्म के नाम पर राजनीति कर पर बीजेपी के घेर चुके हैं। 

सीएम गहलोत ने कहा कि उत्तर प्रदेश को पछाड़कर राजस्थान दूध उत्पादन के मामले में देश में पहले स्थान पर आ गया है। इस पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने खुशी जताई और प्रदेश के पशुपालकों को इसके लिए बधाई दी. प्रदेश के मुखिया बुधवार को दुर्गापुरा स्थित कृषि अनुसंधान केंद्र के ऑडिटोरियम में ‘राज्य स्तरीय पशुपालक सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे। सीएम बोले, यह खुशी की बात है और इसके लिए प्रदेश के सभी पशुपालकों को बधाई लेकिन आज भी गुजरात के अमूल ब्रांड का दूध व उसके उत्पाद हर जगह मिलते हैं. जबकि राजस्थान की डेयरी के सरस ब्रांड का दूध व इससे बने उत्पाद हर जगह नहीं पहुंच रहे हैं. इसके लिए सभी को मिलकर प्रयास करना होगा।दरअसल, देश में कुल दुग्ध उत्पादन में पहले राजस्थान की भागीदारी 12 फीसदी थी. अब राजस्थान की भागीदारी बढ़कर 15 फीसदी हो गई है. इस मौके पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रगतिशील पशुपालकों को सम्मानित किया और प्रशिक्षणार्थी आवासीय भवन का वर्चुअली लोकार्पण भी किया. इसके साथ ही उन्होंने भाजपा पर धर्म की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए सवाल किया कि क्या मैं हिंदू नहीं हूं? इससे पहले कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, राजस्थान गौसेवा आयोग के अध्यक्ष मेवाराम जैन और पशुपालन विभाग के सचिव सचिव कृष्ण कुणाल ने भी संबोधित किया।

सीएम गहलोत ने कहा कि मनुष्यों के साथ ही पशुओं के भी निशुल्क उपचार की व्यवस्था सरकार कर रही है. हमारा प्रयास है कि पशुओं का उपचार गांव में ही संभव हो. इसके लिए पहले वंचित रहे गांवों में स्वास्थ्य केंद्र खोले गए हैं. उन्होंने कहा कि जिस तरह मनुष्यों के लिए चिरंजीवी योजना लाई गई है. उसी तरह पशुओं के लिए भी बीमा योजना शुरू की जाएगी. इसमें भी कमजोर वर्ग को प्रीमियम नहीं देना पड़ेगा. सरकार का शिक्षा और स्वास्थ्य के मामलों पर ज्यादा होना चाहिए. सीएम कहा कि उनकी सरकार ने कृषि और पशुपालन की पढ़ाई का महत्व समझते हुए पहले जोबनेर कृषि कॉलेज को विश्वविद्यालय में बदला. अब वहां वेटनरी विश्वविद्यालय की घोषणा की गई है. सरकार ने 49 नए कृषि कॉलेज भी खोले हैं। लम्पी बीमारी में मरने वाली गायों के लिए 40 हजार रुपए दे रहे है। मुख्यमंत्री गहलोत ने आगे कहा कि देश में महंगाई और हिंसा बढ़ रही है। गरीबी घटने के बजाए बढ़ रही है। वहीं राजस्थान में प्रति व्यक्ति आय बढ़ रही है. हमने पहली बार गौशालाओं को अनुदान देना शुरू किया। 90 हजार पशुपालकों को क्रेडिट कार्ड जारी किए गए हैं. किसानों के लिए हमने अलग बजट पेश किया। यह कहना आसान है आय दोगुनी कर देंगे, लेकिन इसके लिए योजनाएं बनानी पड़ती हैं. उन्होंने कहा कि चिप की कमी के कारण महिलाओं को मोबाइल फोन देने की योजना में देरी हुई है। अब रक्षाबंधन से यह योजना शुरू की जाएगी। प्रदेश के 100 प्रगतिशील किसान नवाचार सीखने विदेश जाएंगे। पहले चरण में 25 किसानों को डेनमार्क या ऑस्ट्रेलिया भेजा जाएगा।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!