31.9 C
Jodhpur

गहलोत दिल्ली से जयपुर लौटे, डॉक्टरों की हड़ताल CS को दिए ये निर्देश

spot_img

Published:

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत दिल्ली से जयपुर लौट आए है।  RTH को लेकर डॉक्टरों की हड़ताल पर गंभीर है। सीएम गहलोत ने जयपुर लौटते ही  चिकित्सा मंत्री व उच्च अधिकारियों के साथ बैठक की। सीएम ने मुख्य सचिव को दिए डॉक्टरों के साथ बैठक करने के निर्देश दिए है। मुख्य सचिव आज रात 10 बजे मुख्य सचिव एवं अन्य उच्च अधिकारी करेंगे डॉक्टरों के साथ बैठक करेंगे। सीएम ने की डॉक्टरों से अपील- “हड़ताल खत्म कर काम पर लौटें। राइट टू हेल्थ में डॉक्टरों के हितों का रखा गया है पूरा ख्याल। डॉक्टरों की मांगों को मानकर ही लाया गया है RTH बिल। डॉक्टरों का हड़ताल पर जाना उचित नहीं है”। पक्ष-विपक्ष ने सर्वसम्मति से पास किया है RTH बिल। 

उल्लेखनीय है कि राजस्थान में राइट-टू-हेल्थ बिल के खिलाफ डॉक्टर्स की हड़ताल से प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्थाएं पूरी तरह से चरमरा गई हैं। जयपुर, जोधपुर,उदयपुर, कोटा मेडिकल कॉलेज से संबधित अस्पतालों और जिला अस्पतालों में रोज जहां सात हजार से अधिक केस आते थे। वहीं डॉक्टरों की हड़ताल के बाद वहां पर 300 से भी कम मरीज आ रहे हैं। मरीजों की संख्या दिनों दिन कम हो रही है. मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.चूंकि डॉक्टर्स हैं नहीं इसलिए ओपीडी खाली पड़ी है. ग्रामीण क्षेत्रों के साथ ही साथ पूरे प्रदेश में एक जैसी स्थिति बनी हुई है.

पिछले कई दिनों से प्रदेश के 2300 से ज्यादा प्राइवेट हॉस्पिटल के संचालक सड़कों पर उतरे हैं. छह दिन से डॉक्टर्स की हड़ताल का प्रदेश में असर दिखने लगा है। बताया जा रहा है कि बिल के पास होने से बड़ा असर और पड़ेगा. डॉक्टर्स का कहना है कि प्राइवेट डॉक्टर के कमाने का अधिकार खत्म हो जाएगा। ऐसे डॉक्टर्स हॉस्पिटल और क्लीनिक कैसे चला पाएंगे? हड़ताल का असर यह है कि जयपुर के कई प्राइवेट अस्पतालों में इलाज नहीं मिल पा रहा है. अगर इसी तरीके से हड़ताल चलती रही तो. आने वाले दिनों में मरीजों को और परेशानी उठानी पड़ सकती है।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!