31.9 C
Jodhpur

कैला देवी जा रहे डेढ़ दर्जन श्रद्धालु चंबल में बहे, 3 शव बरामद

spot_img

Published:

राजस्थान में करौली जिला स्थित प्रसिद्ध कैलादेवी का लक्खी मेला शुरू होने से पहले ही एक दुखद भरी खबर सामने आई है। जहां शनिवार को मध्यप्रदेश से पैदल चलकर कैलादेवी आ रहे पद यात्रियों का एक जत्था मंडरायल की चंबल नदी में बह गया। मुरैना कलेक्टर अंकित अस्थाना ने तीन शव मिलने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि ”चंबल नदी में कुल 17 लोग बह गए थे, जिनमें से 8 लोग सुरक्षित निकल गए हैं, 3 लोगों के शव नदी से निकाल लिए गए हैं. बाकी के लोग लापता हैं. एनडीआरएफ और अन्य दल वहां पर पहुंच गए हैं, गोताखोरों की मदद से लापता लोगों की तलाश की जा रही है।”

ग्रामीणों से मिली जानकारी के अनुसार, मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले के सिलायचौन गांव निवासी कुशवाह समाज के 17 लोगों का जत्था कैला देवी की पदयात्रा के लिये जा रहा था, तभी करौली जिले के मंडरायल उपखंड से होकर गुजर रही चंबल के रोधई घाट पर पदयात्रियों का जत्था पानी में से होकर निकलने लगा. तभी पानी के तेज बहाव और पैर पिसलने के कारण सभी पदयात्री चंबल नदी में बह गए।पदयात्रियों की चिख चिल्लाहट के बाद आसपास के ग्रामीण मौके पर पहुंचे और तुरंत 8 लोगों को तो बाहर निकाल लिया गया, लेकिन कुछ पदयात्री फिलहाल लापता हैं। मुरैना कलेक्टर ने 3 लोगों की मौत की पुष्टि की है। घटना की सूचना मिलने के बाद करौली कलेक्टर अंकित कुमार सिंह, एसपी नारायण टोकस सहित पुलिस प्रशासन और एसडीआरएफ के जवान भी मौके पर पहुंचे है। फिलहाल राहत और बचाव का कार्य जारी है।

उल्लेखनीय है कि हर साल करौली के प्रसिद्ध मंदिर कैला देवी में चैत्र नवरात्र से पहले लक्खी मेला भरता है। जिसमें पूरे राजस्थान, मध्यप्रदेश के अलावा अन्य प्रदेशों से भी श्रद्धालु पहुंचते है। इनमें बहुत बड़ी संख्या पैदल यात्रियों की भी होती है। इस बार यह मेला 19 मार्च रविवार से शुरू हो रहा है। इसके लिए अभी से पदयात्री कैलादेवी पहुंचने लगे है। 

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!