46.1 C
Jodhpur

आईएएस पवन अरोड़ा ने महिला अधिकारी के आरोपों को बताया असत्य

spot_img

Published:

राजस्थान के आईएएस अधिकारी पवन अरोड़ा ने महिला अधिकारी द्वारा लगाए गए आरोपों को असत्य, मनगढंत और बेबुनियाद बताया है। हाऊसिंग बोर्ड के आयुक्क पवन अरोड़ा ने कहा कि आरोप बेबुनियाद है। सत्यता से परे हैं। पवन अरोड़ा ने लाइव हिंदुस्तान से कहा कि महिला के आरोप मनगंढत है। पहले सत्यता का परीक्षण कीजिए। बता दें राजस्थान में आरएएस अधिकारी पूजा मीना ने आईएएस अधिकारी पवन अरोड़ा पर सैंक्स स्कैंडल चलाने और हेरेसमेंट करने के गम्भीर आरोप लगाए है। पूजा मीना का आरोप है- औरतों को मेरे पीछे लगा रखा है। उन औरतों को अधिकारियों से जोड़ता है, ताकि उनक को फंसाकर रखे। मुझसे जुड़ेंगी तो इनकी सच्चाई उजागर होगी। सच्चाई को उजागर होने से बचाने के लिए सारी हरकतें करता है। फेक न्यूज लगाना। फेक वीडियो बनाना, पेक आईडी बनाना, मेरी लोकेश ट्रैस करना, हैकिंग करना। झूठे मैसेज बना देगा। चार्जशीट बना देगा।

महिला अधिकारी पूजा मीना ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हृदेश कुमार शर्मा पहले डायरेक्टर है डीएलबी का जिसने पवन अरोड़ा को प्रोटेक्शन दिया है। पहले आज तक किसी भी अधिकारी ने इतना प्रोटेक्शन नहीं दिया मेरी जितनी भी चार्जशीट बनाई गई, फेक बनाई गई, कोई रिकाॅर्ड नहीं है। फर्जी चार्जसीट बनाने वाला है महिमा डांगी और पवन अरोड़ा। मैं इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराऊंगी। कोर्ट जाऊंगी। बहुत दुर्भाग्य की बात है कि यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल पवन अरोड़ा के साथ मिला हुआ है। क्योंकि यह पहले डीएलबी डायरेक्टर था। शांति धारीवाल जी ने भी अन्याय किया है। बदमाश लोगों को धारीवाल प्रोटेक्शन करते हैं। अच्छे अधिकारियों के साथ अन्याय होता है।

[bsa_pro_ad_space id=2]
spot_img
spot_img

सम्बंधित समाचार

Ad

spot_img

ताजा समाचार

spot_img
error: Content is protected !!